Exclusive: न तो यूपीए न ही एनडीए सरकार बनने जा रही है: ममता बनर्जी

कांग्रेस के कैंपेन 'अब न्याय होगा' और गरीबों को 6000 प्रति माह देने के वादे पर ममता ने कहा कि जब हम कोई कॉमन मिनिमम एजेंडा पर काम करते हैं तो सभी के विचारों को देखना होता है.

News18Hindi
Updated: April 19, 2019, 7:41 AM IST
News18Hindi
Updated: April 19, 2019, 7:41 AM IST
हमें तोड़ने का कोई सवाल ही नहीं उठता और भाजपा इस लोकसभा चुनाव में बंगाल में मौजूद अपनी दो सीटें भी खो देगी. यह बात पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नेटवर्क18 के एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी से खास बातचीत के दौरान कही.

ममता से जब यह पूछा गया कि चर्चा है कि यह चुनाव आपके बनने या खत्म होने का सवाल होगा. यह या तो आपको पीएम बना सकता है या फिर आप बंगाल की मुख्यमंत्री की सीट भी खो देंगी, इस पर क्या कहना है, तो वो थोड़ी तल्‍ख हुईं. उन्होंने कहा कि ऐसा कोई सवाल ही नहीं है और बनाने की बात कहां से आ गई. कई क्षेत्रीय पार्टियां ऐसी हैं जो अब नेशनल पार्टियां बन गई हैं. टीएमसी भी उन्हीं में से एक है. ऐसा ही एनसीपी, सपा और बसपा के मामले में भी है. हम अपनी रणनीति साथ बनाएंगे. जीतना और खोना मुख्य बात नहीं है. देश को बचाना हम सभी की पहली चिंता है, न कि व्यक्तिगत लाभ या लक्ष्य.

हम ही हैं नंबर 1

ममता के सामने बीजेपी के बढ़ते प्रभाव के आंकड़े रखे गए और बताया गया कि बीजेपी का वोट शेयर 2009 में दस प्रतिशत था जो बढ़कर 2014 में 17 प्रतिशत हो गया. इस पर बड़ी सहजता से उन्होंने कहा, देखिए सीपीएम के कुछ लोगों ने बीजेपी का दामन थाम लिया है. एक पक्ष होता है और एक विपक्ष, ऐसे में हमारी सरकार है और हम ही नंबर एक हैं. अब ऐसे में वोट शेयर यह निर्धारित करेगा कि सीपीएम, कांग्रेस या बीजेपी में से कौन विपक्ष के तौर पर आता है. बीजेपी केंद्र में शक्तिशाली है और वे ईडी व सीबीआई जैसे संस्‍थानों के जरिए लोगों को धमका सकते हैं. ऐसे में सीपीएम के कुछ कार्यकर्ता, साथ ही कांग्रेस के भी कुछ लोग बीजेपी में चले गए हैं. जब बीजेपी पावर में नहीं रहेगी तो सभी उसका साथ छोड़ देंगे.

तब 42 में से थी सिर्फ एक सीट

विधानसभा चुनावों को देखते हुए राज्य में यदि बीजेपी की बढ़त ऐसी ही रहती है तो क्या यह बड़ी चुनौती होगी, यह पूछने पर ममता ने कहा कि कुछ भी नहीं होगा. 2004 की बात की जाए तो हमारा वोट शेयर 30 प्रतिशत था, लेकिन 42 में से सिर्फ एक सीट हमारे खाते में थी. वहीं बीजेपी को 2014 का वोट शेयर 31 प्रतिशत था, लेकिन दिल्ली में उन्होंने सरकार बनाई. यह ऐसे काम नहीं करता है.

ये भी पढ़ें: Exclusive: हमें ऐसा चौकीदार चाहिए, जो देश के लिए काम करे- ममता बनर्जीसंयुक्त मोर्चे के विचार से सभी सहमत हैं

चंद्रबाबू नायडू, अखिलेश और तेजस्वी से बातचीत और संयुक्त मोर्चे के सवाल पर ममता ने कहा कि हां यह सही है कि मैं सभी से संपर्क में हूं. हम सभी साथ हैं और मेरे सभी से अच्छे संबंध हैं. बसपा सुप्रीमो मायावती से संबंध की बात पर उन्होंने कहा कि मेरे उनसे काफी बेहतर संबंध हैं.

सभी को भरोसे में लेकर करना होगा फैसला

कांग्रेस के कैंपेन 'अब न्याय होगा' और गरीबों को 6000 रुपये प्रति माह देने के वादे पर ममता ने कहा कि जब हम कोई कॉमन मिनिमम एजेंडा पर काम करते हैं तो सभी के विचारों को देखना होता है. मैं यह निर्णय करने में सक्षम नहीं हूं कि हम क्या करेंगे. सभी को भरोसे में लेकर काम करना होगा. जब हम ऐसा करेंगे तो उसके लिए विचार विमर्श होगा और हम सभी साथ बैठकर हर बिंदु पर बातचीत कर निर्णय लेंगे.

कांग्रेस अकेले नहीं बना सकेगी सरकार

कांग्रेस की स्कीम के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि मैं इस बारे में कुछ नहीं कहना चाहती, क्योंकि कांग्रेस अकेली सरकार बनाने नहीं जा रही है, ऐसे में वे ऐसा कैसे करेंगे? सभी क्षेत्रीय पार्टियां अब काफी शक्तिशाली हैं. मैं आपको बता रही हूं कि न तो एनडीए और न ही यूपीए सरकार बनाने जा रही है. हो सकता है कोई नया गुट सामने आए. इसका इंतजार करें. मैं ज्योतिषी नहीं हूं, इसलिए मैं भविष्य नहीं कर सकती. आशा है और गुंजाइश भी कि इन शक्तिशाली क्षेत्रीय ताकतों के साथ ही सरकार का निर्माण हो.

ये भी पढ़ें: Exclusive: बंगाल में जीतेंगे 42 की 42 सीटें, विपक्ष तय करेगा प्रधानमंत्री : ममता बनर्जी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार