अपना शहर चुनें

States

नेपालः कम्युनिस्ट पार्टी ने PM केपी ओली को दिखाया बाहर का रास्ता, सदस्यता रद्द

नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली.
नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली.

Nepal Latest News in Hindi: पार्टी में ओली के खिलाफ बगावत के सुर काफी समय से बुलंद हो रहे थे. एनसीपी के पृथक धड़े के नेता पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने शुक्रवार को यहां एक बड़ी सरकार विरोधी रैली का नेतृत्व किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 10:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नेपाल (Nepal) की राजनीति में बड़ा भूचाल आ गया है. देश के के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (Caretaker PM KP Sharma Oli) को कम्युनिस्ट पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया है. इसके साथ ही पार्टी ने केपी शर्मा ओली की सदस्यता को भी रद्द कर दिया है. न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत करते हुए स्प्लिन्टर समूह के प्रवक्ता, नारायण काजी श्रेष्ठ ने कहा कि केपी शर्मा ओली की सदस्यता को तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया गया है.

दरअसल, पार्टी में ओली के खिलाफ बगावत के सुर काफी समय से बुलंद हो रहे थे. एनसीपी के पृथक धड़े के नेता पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने शुक्रवार को यहां एक बड़ी सरकार विरोधी रैली का नेतृत्व किया था. इस दौरान उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली द्वारा संसद को ‘‘अवैध तरीके’’ से भंग किए जाने से देश में मुश्किल से हासिल की गई संघीय लोकतांत्रिक गणराज्य प्रणाली को गंभीर खतरा पैदा हुआ है.

ओली पर लगाया था संविधान और प्रक्रियाओं का उल्लंघन का आरोप
नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के अपने धड़े के समर्थकों को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री प्रचंड ने कहा कि ओली ने न सिर्फ पार्टी के संविधान और प्रक्रियाओं का उल्लंघन किया, बल्कि नेपाल के संविधान की मर्यादा का भी उल्लंघन किया और लोकतांत्रिक रिपब्लिक प्रणाली के खिलाफ काम किया. उन्होंने कहा कि ओली के कदमों के चलते लोग प्रदर्शन करने को विवश हुए हैं और आज, पूरा देश प्रतिनिधि सभा को भंग किए जाने के खिलाफ है.



ये भी पढ़ेंः- कैलाश विजयवर्गीय का ममता बनर्जी से सवाल, जय श्री राम का नारा सुनकर अपमानित क्यों महसूस किया?

पिछले साल ही आया था राजनीतिक संकट
नेपाल में 20 दिसंबर 2020 को तब राजनीतिक संकट में फंस गया जब चीन समर्थक समझे जाने वाले ओली ने प्रचंड के साथ सत्ता संघर्ष के बीच अचानक प्रतिनिधि सभा भंग करने की सिफारिश कर दी. राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने उनकी अनुशंसा पर उसी दिन प्रतिनिधि सभा को भंग कर 30 अप्रैल और 10 मई को नए चुनावों की तारीख का ऐलान भी कर दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज