• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • त्रिपुरा CM के 'नेपाल-श्रीलंका में BJP सरकार' वाले बयान से भड़का काठमांडू, फोन कर की शिकायत

त्रिपुरा CM के 'नेपाल-श्रीलंका में BJP सरकार' वाले बयान से भड़का काठमांडू, फोन कर की शिकायत

नेपाल के राजदूत ने भारतीय विदेश मंत्रालय में बिप्लब देब के बयान पर आपत्ति जताई है. (सांकेतिक तस्वीर)

नेपाल के राजदूत ने भारतीय विदेश मंत्रालय में बिप्लब देब के बयान पर आपत्ति जताई है. (सांकेतिक तस्वीर)

Tripura CM Biplab Deb Controversial Statement: देब ने कहा था कि जब गृह मंत्री अमित शाह पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे तब उन्होंने कहा था कि नेपाल और श्रीलंका में बीजेपी की सरकार बनाने की योजना है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब (Tripura CM Biplab Deb) के श्रीलंका और नेपाल में सरकार बनाने की भाजपा की योजना को लेकर दिए गए बयान पर नेपाल ने आपत्ति दर्ज कराई है. काठमांडू पोस्ट की एक खबर के मुताबिक नई दिल्ली में नेपाल दूतावास में नेपाल के राजदूत नीलांबर आचार्य ने भारतीय विदेश मंत्रालय में नेपाल और भूटान के इंचार्ज संयुक्त सचिव अरिंदम बागची को फोन कर देब के बयान को लेकर आपत्ति जताई. भारत की ओर से फिलहाल कहा गया है कि वह ऐसे बयानों का समर्थन नहीं करता है और जल्द ही वह इस संबंध में अपना आधिकारिक बयान जारी करेगा.

    बिप्लब देब ने 13 फरवरी को त्रिपुरा के अगरतला में अपने एक दौरे पर 2018 के बयान का हवाला देते हुए श्रीलंका और नेपाल तक विस्तार की बात कही थी. देब ने कहा था कि जब गृह मंत्री अमित शाह पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे तब उन्होंने कहा था कि नेपाल और श्रीलंका में बीजेपी की सरकार बनाने की योजना है. देब ने कहा था कि पार्टी के विस्तार की चर्चा से जुड़े इस मामले पर कहा था, “हम अतिथिगृह में बात कर रहे थे तब अजय जामवाल ने कहा था कि बीजेपी ने कई राज्यों में अपनी सरकार बनाई. इसी के जवाब में अमित शाह ने कहा था कि अब श्रीलंका और नेपाल में भी विस्तार करना है.”

    भारत देगा गुरुवार को जवाब
    सूत्रों के मुताबिक आचार्य ने इस बयान पर नाराजगी जताई है इसके साथ ही स्पष्टीकरण भी मांगा है. भारत की ओर से कहा गया है कि आचार्य को दो टूक जवाब दिया गया कि- क्या उन्हें लगता है कि देश के गृह मंत्री ने इस संबंध में ऐसे निराधार और बेबुनियाद दावे किए होंगे?” भारत ने कहा कि इस संबंध में गुरुवार को विदेश मंत्रालय की साप्ताहिक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान औपचारिक जवाब दिया जाएगा.

    आचार्य ने इस तरह के दावों को निराशाजनक करार दिया है. उन्होंने कहा है कि भारतीय अखबारों में इस तरह की कई खबरें देखी जा रही हैं जो कि निराशाजनक हैं. इस पर भारत की ओर से जवाब दिया गया है कि भारत ऐसे बयानों पर विश्वास नहीं करता है और इस संबंध में वह जल्द ही अपना पक्ष रखेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज