Assembly Banner 2021

कोरोनाः नेपाल के PM केपी शर्मा ओली ने लगवाई भारत की बनाई वैक्सीन का टीका

नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने वैक्सीन का टीका लगवाया. ANI

नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने वैक्सीन का टीका लगवाया. ANI

Nepal PM KP Sharma Oli Vaccinated: नेपाल में कोरोना वायरस टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू हो गया है.

  • Share this:
काठमांडूः नेपाल के केयर टेकर प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) ने रविवार को भारत द्वारा निर्मित मेड इन इंडिया कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) का टीका लगवाया. नेपाल में कोरोना वायरस टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू हो गया है. नेपाल के प्रधानमंत्री ने काठमांडू में महाराजगंज स्थित त्रिभुवन विश्वविद्यालय टीचिंग अस्पताल में वैक्सीन का टीका लगवाया. वैक्सीन लगवाने के बाद प्रधानमंत्री ओली ने लोगों से बिना हिचक के वैक्सीन का टीका लगवाने का आग्रह किया, ताकि कोरोना वायरस को मात दी जा सके. हिमालयन टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री की पत्नी राधिका शाक्य को भी वैक्सीन का टीका लगा है.

गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं ओली

69 वर्षीय ओली गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं और 2020 में उनका किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था. रिपोर्ट्स के मुताबिक नेपाल में टीकाकरण के दूसरे चरण में 65 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन की खुराक दी जा रही है. बता दें कि इस साल की शुरुआत में भारत ने नेपाल को कोविशील्ड (Covishield) वैक्सीन की 10 लाख खुराक अनुदान के रूप में सौंपी थी. बाद में नेपाल ने भारत से 20 लाख वैक्सीन की खुराक खरीदी, इसमें से 10 लाख वैक्सीन अभी नेपाल को दी जानी हैं.



टीकाकरण के लिए कोविशील्ड का इस्तेमाल
भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा विकसित कोविशील्ड वैक्सीन ही नेपाल इस्तेमाल कर रहा है, इसके अलावा कोई और वैक्सीन नेपाल में टीकाकरण के लिए उपयोग में नहीं लाई जा रही है. गौरतलब है कि वैक्सीन मैत्री अभियान के तहत भारत पड़ोसी देशों को कोरोना वायरस वैक्सीन उपलब्ध करा रहा है.

टीकाकरण के 6 हजार केंद्र

रविवार से शुरू हुए कोरोना वायरस टीकाकरण कार्यक्रम के दूसरे चरण में नेपाल का लक्ष्य 16 लाख वरिष्ठ नागरिकों को टीका लगाने का है. भारत के पड़ोसी देश में 6 हजार कोरोना वायरस टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं. इसी तरह 55 साल से ऊपर के गंभीर बीमारियों से पीड़ित लोगों को भी 15 जिलों में वैक्सीन की खुराक दी जाएगी.

नेपाल में कोरोना वायरस टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत 27 जनवरी को हुई थी और इसके तहत फ्रंटलाइन कर्मियों को प्राथमिकता के आधार पर टीका लगाया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज