Home /News /nation /

केन्‍द्र सरकार नेताजी सुभाष चंद बोस की जन्‍म और कर्म स्‍थली से कराएगी पर्यटकों को रूबरू

केन्‍द्र सरकार नेताजी सुभाष चंद बोस की जन्‍म और कर्म स्‍थली से कराएगी पर्यटकों को रूबरू

पर्यटन मंत्रालय ने नेताजी सुभाष चंद बोस सर्किट विकसित किया.

पर्यटन मंत्रालय ने नेताजी सुभाष चंद बोस सर्किट विकसित किया.

Netaji Subhash Chand Bose circuit - केन्‍द्र सरकार  Netaji Subhash Chand Bose जन्‍म और कर्म स्‍थली से tourist को रूबरू कराने की तैयारी कर ली है. Ministry of Tourism नेताजी सुभाष चंद बोस से जुड़े देश के अलग-अलग हिस्‍सों को एक साथ जोड़ने के लिए तीन सर्किट लांच किया है. इन सर्किट के माध्‍यम से लोग नेता जी से संबंधित जगहों को करीब से देखने का मौका मिलेगा. सर्किट के तहत पैकेज तीन और चार दिन के होंगे. लोग सुविधा अनुसार पैकेज चुन सकेंगे.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. केन्‍द्र सरकार  नेताजी सुभाष चंद बोस जी जन्‍म और कर्म स्‍थली से आम जनता को रूबरू कराने की तैयारी कर ली है. पर्यटन मंत्रालय नेताजी सुभाष चंद बोस से जुड़े देश के अलग-अलग हिस्‍सों को एक साथ जोड़ने के लिए तीन सर्किट लांच किया है. इन सर्किट के माध्‍यम से लोग नेता जी से संबंधित जगहों को करीब से देखने का मौका मिलेगा.

    इन तीन सर्किट में तीन और चार दिन का टूर पैकेज होगा. लोग अपनी सुविधा अनुसार इस पैकेज के तहत नेता जी से संबंधित जगह को देख सकते हैं. सर्किट के तहत उत्‍तर प्रदेश, गुजरात, हिमांचल प्रदेश,कोलकाता और मणिपुर में नेता जी से संबधित स्‍थानों को चिन्‍हित किया गया है. पर्यटन मंत्रालय ने इससे पूर्व भी बुद्ध सर्किट,रामायण सर्किट जैसे कई सर्किट विकसित कर चुकी है. सर्किट इस प्रकार होंगे.

    पहला सर्किट चार दिन का होगा, इसमें  दिल्‍ली, मेरठ,डलहाउस, दिल्‍ली, सूरत शामिल

    पहला दिन दिल्‍ली से मेरठ 98  किमी. – यहां पर टाउन हाल, शहीद स्‍मारक, स्‍वतंत्रता संग्रहालय देख सकेंगे. यहां पर नेता जी 1940 में भाषण दिया था.

    दूसरा दिन: मेरठ से डलहाउस हिमाचल प्रदेश 554 किमी.- किनांस ब‍िल्डिंग डल हाउस में नेता जी सात महीने रहे थे. लोग इसे देख सकेंगे.

    तीसरा दिन डलहाउस से दिल्‍ली वापसी 570 किमी.

    चौथे दिन- हरीपुरा सूरत, फ्लाइट से, यहां पर 1938 में आयोजित हरीपुरा सेशन में नेताजी इंडियन नेशनल कांग्रेस के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चुने किए गए थे.

    दूसरा सर्किट चार दिन का होगा, इसमें पर्यटक कोलकाता, रुजाजहो और मोइरंग जा सकेंगे.

    पहले और दूसरा दिन कोलकाता से दीमापुर फ्लाइट से, यहां पर रोड  से 150 किमी.दूर  रुजाजहो पहुंचेंगे. जहां पर आईएनए के संचालन के लिए मुख्‍यालय बनाया गया.

    तीसरा और चौथा दिन- 235 किमी. दूर आईएनए मेमोरियल देख सकेंगे.

    तीसरा सर्किट में तीन दिन यात्रा होगी, इसमें कटक से कोलकाता अंडमान शामिल होंगे.

    पहला दिन-जनाकिनाथ भवन, जहां नेता जी का बचपन बीता. पर्यटक यहां पहुंचेंगे.

    दूसरा दिन- स्‍टेवार्ट स्‍कूल, जहां नेता जी की प्रारंभिक शिक्षा हुई.

    तीसरा दिन-रावेनशां कॉलेजिएट स्‍कूल, जहां 1909 में हाईस्‍कूल किया.

    Tags: Culture, Netaji subhas chandra bose, Tourism

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर