नेटवर्क18, फेडरल बैंक का नया अभियान 'संजीवनी- टीका जिंदगी का', टीकाकरण से जुड़े सब मिथकों को करेगा दूर

पूरे देश में इम्युनिटी को हासिल करना कोरोना वायरस संक्रमण के जाल को तोड़ने का एकमात्र उपाय है, जोकि संजीवनी अभियान को हालिया समय का सबसे महत्वपूर्ण अभियान बनाता है.

Sanjeevani- A Shot Of Life: महत्वपूर्ण बात ये है कि संजीवनी जैसे अभियान के संचालन के लिए सोनू सूद से विश्वसनीय ब्रैंड एंबेसडर कोई और नहीं हो सकता था और नेटवर्क 18, फेडरल बैंक और अपोलो 24/7 जैसे सम्मानित ब्रैंड्स का साथ आना इसके प्रभाव को और बढ़ाता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. महामारी शुरू होने के बाद से देश में जिस दिन कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामले 1 लाख को पार कर गए, उसी दिन फिल्म अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर मैसेज पोस्ट करते हुए ऐलान किया कि वे संजीवनी अभियान (Sanjeevani A Shot Of Life) से जुड़ गए हैं, जिसका लक्ष्य देश में कोरोना वायरस टीकाकरण को तेज करना है. संजीवनी अभियान 7 अप्रैल को शुरू होगा. ये दिन वैश्विक स्तर पर विश्व स्वास्थ्य दिवस के रूप में मनाया जाता है. आइए आपको बताते हैं कि आज संजीवनी अभियान की जरूरत क्यों है, और इस अभियान के जरिए किस तरह टीकाकरण अभियान को गति मिलेगी.

    संजीवनी के पीछे की ताकत
    नेटवर्क18 के इस अभियान को संजीवनी नाम दिया गया है, जोकि फेडरल बैंक का कॉरपोरेट सोशल रेस्पांसिबिलिटी कार्यक्रम भी है. इस अभियान में अपोलो 24/7 ने हेल्थ एक्सपर्ट के तौर हाथ मिलाया है. इस कैंपेन की अगुवाई नेटवर्क18 करेगा और फेडरल बैंक के साथ मिलकर अपोलो 27/7 कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में वैक्सीन से जुड़े कार्यक्रम चलाएगा.

    अभियान के तहत फेडरल बैंक कोरोना की दूसरी लहर में सबसे ज्यादा प्रभावित पांच जिलों को गोद लेगा और इन जिलों में स्थित गांवों में मुफ्त में टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा. फेडरल बैंक का ये प्रयास इस बात का द्योतक है कि 100 करोड़ से ज्यादा की आबादी वाले देश में टीकाकरण कार्यक्रम सिर्फ सरकार द्वारा नहीं चलाया जाना चाहिए. बल्कि नेटवर्क18 जैसी प्राइवेट कंपनियां भी जिम्मेदारी उठा सकती है और कोरोना की दूसरी लहर को थामने में मददगार हो सकती हैं. ताकि ज्यादा से ज्यादा जान-माल को सुरक्षित किया जा सके.



    इस अभियान में अपोलो 24/7 चुने हुए पांच जिलों में वैक्सीनेशन कैंप लगाएगा, साथ ही विशेषज्ञ डॉक्टरों सहित टीकाकरण विशेषज्ञ भी अपनी सेवाएं देंगे, जिनकी मदद से वैक्सीन को लेकर आम लोगों में व्याप्त मिथ को दूर किया जाएगा, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आएं. इस अभियान के ब्रैंड एंबेसडर सोनू सूद भी कोरोना वायरस वैक्सीन का टीका लगवाएंगे, ताकि संजीवनी अभियान के तहत ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका लगवाने की प्रेरणा मिले.

    संजीवनी का लक्ष्य और रणनीति
    संजीवनी अभियान का पहला स्पष्ट उद्देश्य देश में कोरोना की दूसरी लहर को रोकना है. साथ ही कोरोना के खिलाफ दोहरी रणनीति अपनाते हुए लोगों के बीच सही तथ्यों और सूचना को फैलाना है तो उन्हें ये समझाना भी कि भारतीयों को कोरोना वैक्सीन लगवाने की जरूरत क्यों है. अभियान का लक्ष्य देश के निचले इलाकों में लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार करना है, जो किन्हीं अफवाहों के चक्कर में हिचक रहे हैं.

    अभियान का एक अन्य महत्वपूर्ण उद्देश्य भारत के टीकाकरण अभियान के बारे में जागरूकता बढ़ाना और किसी भी तरह के मिथ को दूर करना है. टीके को लेकर आम लोगों के बीच हिचक खत्म होने के बाद हेल्थ सेक्टर के लिए टीकाकरण कार्यक्रम को चलाना आसान हो जाएगा. संजीवनी अभियान के तहत सही जानकारियां और तथ्यों को समझने के बाद जैसे ही ज्यादा से ज्यादा लोग टीका लगवाने लगेंगे, देश में हर्ड इम्युनिटी के पैदा होने की स्थिति बेहतर होती जाएगी.

    अमृतसर में होने वाले लॉन्च कार्यक्रम की शुरुआत के मौके पर खास 'संजीवनी गाड़ी' को भी रवाना किया जाएगा, जोकि फेडरल बैंक द्वारा गोद लिए गए 5 जिलों के 1500 गांवों में जाएगी और लोगों के बीच विभिन्न कार्यक्रमों के जरिए कोरोना वैक्सीन को लेकर जागरूकता जगाएगी. संजीवनी अभियान के तहत 'वैक्सीन गिफ्ट' करने का विचार भी है, जिसके तहत फेडरल बैंक द्वारा गोद लिए गए गांवों में लोग मुफ्त में टीका लगवा सकेंगे. इन जिलों में अमृतसर, नासिक, इंदौर, गुंटूर और दक्षिण कन्नड़ शामिल हैं. ये पांच जिले देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं.

    अभियान का परिणाम
    देश की ज्यादातर प्राइवेट कंपनियों ने अपने कर्मचारियों के टीकाकरण के खर्च का भुगतान करने का ऐलान किया है. लेकिन, आवश्यकता इस बात कि है कि देश के निचले इलाकों में टीकाकरण को तेज किया जाए और इसे मेट्रो शहरों से निकाल कर ग्रामीण इलाकों में ले जाया जाए. ऐसी स्थिति में एक विश्वसनीय अभियान देश के सबसे ज्यादा प्रभावित इलाकों में कोरोना के संक्रमण को थामने में निर्णायक हो सकता है.

    महत्वपूर्ण बात ये है कि संजीवनी जैसे अभियान के संचालन के लिए सोनू सूद से विश्वसनीय ब्रैंड एंबेसडर कोई और नहीं हो सकता था और नेटवर्क 18, फेडरल बैंक और अपोलो 24/7 जैसे सम्मानित ब्रैंड्स का साथ आना इसके प्रभाव को और बढ़ाता है. पूरे देश में इम्युनिटी को हासिल करना कोरोना वायरस संक्रमण के जाल को तोड़ने का एकमात्र उपाय है, जोकि संजीवनी अभियान को हालिया समय का सबसे महत्वपूर्ण अभियान बनाता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.