अहमदाबाद के अस्पताल में बेटे की जगह दे दी बेटी, परिवार कराएगा डीएनए टेस्ट

अहमदाबाद के अस्पताल में बेटे की जगह दे दी बेटी, परिवार कराएगा डीएनए टेस्ट
अहमदाबाद के अस्पताल में बेटे की जगह दे दी बेटी

दंपति ने आरोप लगाया है कि सोला सिविल अस्पताल (Sola civil hospital) की नर्स ने पहले बताया था कि उनको बेटा हुआ है लेकिन बाद में उन्हें बेटी दे दी गई.

  • Share this:
अहमदाबाद. गुजरात (Gujarat) के अहमदाबाद (Ahmedabad) के एक अस्पताल में उस समय हंगामा शुरू हो गया जब एक दंपत्ति को बेटे की जगह बेटी सौंप दी गई. दंपति ने आरोप लगाया है कि सोला सिविल अस्पताल (Sola civil hospital) की नर्स ने पहले बताया था कि उनको बेटा हुआ है लेकिन बाद में उन्हें बेटी दे दी गई. इसके बाद भी जब अस्पताल प्रशासन ने उनकी बात नहीं सुनी तो दंपती ने अस्पताल के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज कराते हुए डीएनए टेस्ट की मांग की है. दंपति ने कहा कि अस्पताल की इस लापरवाही से पर्दा उठाने के लिए नवजात का डीएनए टेस्ट कराया जाना बेहद जरूरी है.

सोला पुलिस स्टेशन के थानाध्यक्ष जेवी राठोड़ ने कहा कि दंपती की शिकायत दर्ज कर ली गई है. बताया जा रहा है कि गुरुवार को महिला का सिजेरियन ऑपरेशन किया गया था. दंपति को शक है कि उनका बच्चा बदल दिया गया है. दंपति ने बताया कि जब उनका बच्चा हुआ था तब नर्स ने बताया था कि उन्हें बेटा हुआ है लेकिन बाद में उन्हें बेटी दे दी गई.

इसे भी पढ़ें :- फडणवीस ने पीएम मोदी को बताई महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति, मुंबई के लिए की ये खास मांग



ये पूरा मामला सामने आने के बाद अस्पताल की ओर से सफाई देते हुए कहा गया है कि महिला को कोविड आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था और वहां पर किसी दूसरे बच्चे का जन्म नहीं हुआ है. ऐसे में बच्चा बदलने का कोई चांस नहीं है. अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि यह नर्स से मानवीय भूल हुई. हम जानते हैं कि नर्स से भूल हुई है और उसने जल्दबाजी में बेटा बोल दिया. जो भी जांच की जाएगी हम उसमें पूरा सहयोग करेंगे. हालांकि हम अभी भी कह रहे हैं कि अस्पताल में बच्चे को बदलने जैसी कोई घटना नहीं हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज