Assembly Banner 2021

आतंकी संगठनों की नई साज़िशः सेना के बुलेटफ्रूफ जैकेट और हेलमेट लूटने की प्लानिंग

सुरक्षा बलों को शक है कि पाकिस्तान की तरफ से आतंकी घुसपैठ के लिए ड्रोन कैमरों के जरिये इंटरनेशनल बॉर्डर के आसपास के इलाकों की रेकी की जा रही है.(Photo- news18 English via Reuters)

सुरक्षा बलों को शक है कि पाकिस्तान की तरफ से आतंकी घुसपैठ के लिए ड्रोन कैमरों के जरिये इंटरनेशनल बॉर्डर के आसपास के इलाकों की रेकी की जा रही है.(Photo- news18 English via Reuters)

आतंक के आकाओं का मानना है कि भारतीय सेना और सुरक्षा बल जो बुलेटप्रूफ हेलमेट ,पटका और बुलेटप्रूफ़ जैकेट इस्तेमाल करते हैं वो बेहतरीन क्वालिटी का है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 10:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले कुछ महीनों में कई आतंकी सिर में गोली लगने से मारे गए थे. ऐसे में आतंकी संगठनों को लगता है कि सुरक्षा बलों से मुठभेड़ के वक़्त बुलेटप्रूफ़ हेलमेट और पटका उनके लिए कारगर साबित हो सकता है. इसीलिए आतंकियों के हथियारों के साथ बुलेटप्रूफ़ हेलमेट और पटका लूटने की भी योजना बनाई है.

दरअसल, सुरक्षाबल पिछले काफी समय से आतंकियों की इस नई साज़िश को डिकोड करने में लगे हुए थे. सुरक्षा बलों के उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो असल में पिछले कुछ महीनों या यूं कहें पिछले कुछ सालों से आतंकियों के ख़िलाफ़ भारतीय सुरक्षा बलों के तेज़ हुए ऑपरेशन और आतंकियों के सफ़ाये के बाद आतंक के आकाओं ने ये नई साज़िश रची है.

सेना की टुकड़ियों पर हमला करके लूटपाट की प्लानिंग
आतंक के आकाओं का मानना है कि भारतीय सेना और सुरक्षा बल जो बुलेटप्रूफ हेलमेट ,पटका और बुलेटप्रूफ़ जैकेट इस्तेमाल करते हैं वो बेहतरीन क्वालिटी का है. लिहाजा सेना और सुरक्षा बल की टुकड़ियों पर हमला करके उनसे ये लूटपाट करने की बड़ी प्लानिंग रची गई है. इसके अलावा पिछले कुछ दिनों से जम्मू के साम्बा सेक्टर के एक बॉर्डर आउटपोस्ट पर तैनात जवानों को इस सेक्टर के अपोजिट पाकिस्तान के चमन खुर्द और गलार टांडा इलाके में लगातार Unmanned ariel vehicle(UAV)/drone की मूवमेंट नज़र आ रही है. इसको लेकर सुरक्षा एजेंसी अलर्ट पर है.
ड्रोन कैमरों के जरिए रेकी करने का शक


दरअसल, सुरक्षा बलों को शक है कि पाकिस्तान की तरफ से आतंकी घुसपैठ के लिए ड्रोन कैमरों के जरिये इंटरनेशनल बॉर्डर के आसपास के इलाकों की रेकी की जा रही है. साथ ही ड्रोन के जरिये इंटरनेशनल बॉर्डर के आसपास के इलाकों में किसी खास जगह पर हथियार गिराने की भी साज़िश हो सकती है. तीन दिन पहले 20 मार्च को साम्बा सेक्टर में इंटरनेशनल बॉर्डर से 500-1000 मीटर पाकिस्तानी सीमा में सुबह 9:15 से 9:45 और फिर 11.32 से 11.35 बजे तक 500-800 मीटर की ऊंचाई पर उड़ता देखा गया.

ये भी पढ़ेंः- बड़ी खबर: दिल्ली में और सख्त हुई बंदिशें, सार्वजनिक स्थानों पर होली, शब-ए-बारात और नवरात्रि मनाने पर रोक

जाहिर तौर से सरहद पार बैठे आतंक के आका जम्मू कश्मीर में लगातार बेहतर होते हालात से बौखलाए हुए हैं और जम्मू कश्मीर में आतंकियों को कश्मीर घाटी में अशांति फैलाने के लिए कुछ न कुछ फरमान जारी कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज