Covid-19: कोरोना ने SC में बदला काम का स्टाइल, अब जजों-वकीलों के लिए नया ड्रेस कोड

Covid-19: कोरोना ने SC में बदला काम का स्टाइल, अब जजों-वकीलों के लिए नया ड्रेस कोड
प्रधान न्यायाधीश (CJI) जस्टिस एसए बोबडे

प्रधान न्यायाधीश (CJI) जस्टिस एसए बोबडे ने बुधवार को एक सुनवाई के दौरान कहा कि वह वकीलों और जजों के लिए नया ड्रेस कोड जारी करेंगे. इसमें गाउन और कोट पहनने की जरूरत नहीं होगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना महामारी (Covid-19 Pandemic) की वजह से देश में लॉकडाउन का चौथा फेज आने वाला है. लॉकडाउन (Lockdown) के कारण सुप्रीम कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से मामलों की सुनवाई हो रही है. इस बीच कोरोना की वजह से सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में वकीलों और जजों के लिए नया ड्रेस कोड भी लाया जाएगा.

प्रधान न्यायाधीश (CJI) जस्टिस एसए बोबडे ने बुधवार को एक सुनवाई के दौरान कहा कि वह वकीलों और जजों के लिए नया ड्रेस कोड जारी करेंगे. इसमें गाउन और कोट पहनने की जरूरत नहीं होगी. वकील और जज दोनों सिर्फ सफेद शर्ट और बैंड लगा कर काम कर सकते है. ये ड्रेस कोड सिर्फ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के लिए होगा. सीजेआई ने कहा कि कोर्ट और गाउन से कोरोना वायरस का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए नया ड्रेस कोड लाया जा रहा है. आज हुई सुनवाई में जजों ने गाउन और कोट नहीं पहना था.

समर वेकेशन में होगी कटौती
कोरोना संकट के बीच सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने इस बार गर्मी की छुट्टियों में कटौती के संकेत दिए हैं. सुप्रीम कोर्ट में 17 मई से 45 दिनों का लंबा समर वेकेशन शुरू हो रहा है. हालांकि, कोर्ट ने तय किया है कि इस बार छुट्टियों को कम किया जाएगा और अदालत इस दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेंडिंग केस की सुनवाई करती रहेगी.



जस्टिस एलएन राव की अगुआई में सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने मंगलवार को इसके संकेत दिए. मंगलवार को कोर्ट नंबर 4 में हुई एक केस की सुनवाई के दौरान बेंच ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को बताया, 'अगले हफ्ते से हम सभी (जज) सुप्रीम कोर्ट के रूम में बैठेंगे. वकील इस दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने चैंबर से जिरह कर सकते हैं.' इस बेंच में जस्टिस एलएन राव के अलावा जस्टिस आरएफ नरीमन, जस्टिस यूयू ललित, जस्टिस एके खानविलकर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ शामिल थे.



ये भी पढ़ें:- 

सुप्रीम कोर्ट में इस बार गर्मी की छुट्टियों में हो सकती है कटौती, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगा काम
ये भी पढ़ें:- Survey : लॉकडाउन से 67% श्रमिकों का गया रोजगार, 74% आधा पेट खाने को मजबूर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading