एक नई वैक्सीन कोविड-19 संक्रमण को जानवरों में रोकने में दिखी कारगर: स्टडी

कोरोना के चिंताजनक वैरिएंट्स पर भी कारगर है ये वैक्सीन. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना के चिंताजनक वैरिएंट्स पर भी कारगर है ये वैक्सीन. (सांकेतिक तस्वीर)

इसकी जानकारी नेचर मैग्जीन (Nature Magazine) में प्रकाशित एक स्टडी में दी गई है. स्टडी में बताया गया है कि ये नई वैक्सीन कोरोना के यूके, दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील वैरिएंट्स को समाप्त करने में भी सफल दिखी है. नई वैक्सीन की ये स्टडी बंदरों और चूहों पर की गई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. एक नए वैक्सीन कैंडिडेट (New Vaccine Candidate) ने जानवरों में कोरोना वायरस के वास्तविक स्वरूप और उसके कई वैरिएंट्स को खत्म करने में सफलता पाई है. इसकी जानकारी नेचर मैग्जीन में प्रकाशित एक स्टडी में दी गई है. स्टडी में बताया गया है कि ये नई वैक्सीन कोरोना के यूके, दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील वैरिएंट्स को समाप्त करने में भी सफल दिखी है. नई वैक्सीन की ये स्टडी बंदरों और चूहों पर की गई है.

अमेरिका की ड्यूक यूनिवर्सिटी से संबंधित बारटन एफ. हाइन्स ने बताया- 'हमने बीते साल से ही ये समझने की कोशिश शुरू की थी कि क्या कोरोना वायरस भी अन्य वायरस की तरह म्यूटेट होगा? हमने पाया कि इस वायरस में तेजी के साथ म्यूटेनशन हो रहा है. नई वैक्सीन को भी जानवरों में कोरोना के नए म्यूटेंट के खिलाफ इस्तेमाल किया गया तो ये कारगर दिखाई दी.' उन्होंने बताया कि इस वक्त यूके, दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील वैरिएंट्स को चिंता का कारण माना जा रहा है. ये वैक्सीन इनके खिलाफ भी पूरी तरह से कारगर दिखी है.

दुनियाभर में कोरोना वायरस के म्यूटेशन से बने वैरिएंट्स को लेकर चिंता जाहिर की जा रही है. यूके सहित अन्य वैरिएंट्स को बेहद चिंताजनक माना गया है. अब भारतीय वैरिएंट को लेकर भी चिंता जाहिर की जा रही है.

Youtube Video

भारतीय वैरिएंट को लेकर भी चिंता

बता दें भारत कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के कारण चिंताजनक स्थिति बनी हुई है. इस बीच विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की शीर्ष वैज्ञानिक ने भारत में बढ़ रहे कोरोना मामलों को लेकर प्रतिक्रिया दी है. डब्‍ल्‍यूएचओ की चीफ साइंटिस्‍ट डॉ. सौम्‍या स्‍वामीनाथन ने कहा है कि भारतीय डबल म्‍यूटेंट कोरोना वायरस अधिक संक्रामक है, लेकिन यह वैक्सीन के प्रति प्रतिरोधक नहीं है. एक इंटरव्‍यू में स्वामीनाथन ने कहा कि डबल म्यूटेशन स्ट्रेन में ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले वेरिएंट शामिल हैं और यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के लिए समझ नहीं आता है और बच निकलता है.

डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि एक प्रारंभिक आंकड़े से पता चला है कि भारतीय डबल म्‍यूटेंट अधिक संक्रामक है, जिससे देश में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है. उन्‍होंने इस दौरान लोगों से कोरोना वैक्‍सीन लगाने की अपील करते हुए कहा कि टीकाकरण महत्वपूर्ण है क्योंकि यह कोरोना वायरस की गंभीरता को कम करेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज