Assembly Banner 2021

इम्यून सिस्टम को चकमा देकर दोबारा संक्रमित कर सकता है कोरोना वायरस का नया वैरिएंट: रिपोर्ट

वायरस का यह प्रकार इम्यून सिस्टम से बचकर निकल सकता है और कोविड-19 बीमारी से उबर चुके मरीज को फिर संक्रमित कर सकता है. (सांकेतिक फोटो)

वायरस का यह प्रकार इम्यून सिस्टम से बचकर निकल सकता है और कोविड-19 बीमारी से उबर चुके मरीज को फिर संक्रमित कर सकता है. (सांकेतिक फोटो)

Covid-19 in India: SARS-CoV-2 के दो वैरिएंट N440K और E484K के मामले महाराष्ट्र और केरल में मिले हैं. हालांकि, केंद्र सरकार का कहना है कि दोनों राज्यों में बढ़ रहे मामलों के पीछे इस वैरिएंट के होने की जानकारी नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 10:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के कुछ राज्यों में एक बार फिर कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों में इजाफा हो रहा है. इसी बीच वायरस के नए वैरिएंट (Coronavirus New Variant) N440K को लेकर बड़ी खबर सामने आई है. कुरनूल मेडिकल कॉलेज में शोधकर्ताओं ने पाया है कि यह वैरिएंट बीमारी से उबर चुके मरीजों में दोबारा संक्रमण (Reinfection) का कारण बन सकता है. देश में करीब 200 मरीज कोरोना वायरस के नए वैरिएंट्स का शिकार हो चुके हैं.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, वायरस का यह प्रकार इम्यून सिस्टम से बचकर निकल सकता है और कोविड-19 बीमारी से उबर चुके मरीज को फिर संक्रमित कर सकता है. शोधकर्ताओं ने एक मामले की जांच कुरनूल में की थी. उनका मानना है कि वह देश में इस वैरिएंट के कारण दोबारा संक्रमण का दूसरा मामला है. भारत में कई देशों के वैरिएंट अब तक मिल चुके हैं.

कुरनूल के कुरनूल मेडिकल कॉलेज, दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी और गाजियाबाद की एकेडमी ऑफ साइंटिफिक एंड इनोवेटिव रिसर्च के शोधकर्ताओं ने पाया है कि N440K का आंध्र प्रदेश में 33 फीसदी प्रसार है. SARS-CoV-2 के दो वैरिएंट N440K और E484K के मामले महाराष्ट्र और केरल में मिले हैं. हालांकि, केंद्र सरकार का कहना है कि फिलहाल अभी तक यह मानने का कोई भी कारण नहीं मिला है कि ये दोनों वैरिएंट्स की वजह से राज्यों के कुछ जिलों में मामलों में इजाफा हुआ है.



यह भी पढ़ें: Corona Vaccine 2nd Phase: इन बीमारियों से जूझ रहे 45 साल से ज्यादा उम्र के मरीज लगवा सकेंगे टीका
भारत में दूसरे देशों में मिले कोरोना वायरस के वैरिएंट्स ने भी चिंता बढ़ा दी है. नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि देश में अब तक 187 लोग ब्रिटेन में मिले स्ट्रेन से संक्रमित हो चुके हैं. वहीं, 6 मरीजों में दक्षिण अफ्रीका के स्ट्रेन का पता चला है. इनमें एक मरीज में ब्राजील के वैरिएंट से संक्रमित पाया गया है.

उन्होंने कहा 'महाराष्ट्र में SARS-CoV-2 के दोनों वैरिएंट्स N440K और E484K मिले हैं. केरल और तेलंगाना में भी ये वैरिएंट्स पाए गए हैं. साथ ही ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील में तीनों देशों से मिले एक-एक वैरिएंट मौजूद हैं.' उन्होंने कहा 'लेकिन वैज्ञानिक सूचना के आधार पर हमारे पास इस बात को मानने का कोई भी कारण नहीं है कि, ये महाराष्ट्र और केरल के जिलों में मामले बढ़ने के लिए जिम्मेदार हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज