वैदिक शिक्षा के आएंगे अच्छे दिन, सरकार देगी 6 करोड़ रुपए

वैदिक शिक्षा के आएंगे अच्छे दिन, सरकार देगी 6 करोड़ रुपए

  • Pradesh18
  • Last Updated: May 22, 2016, 12:49 PM IST
  • Share this:
भारत की सबसे पुरानी शिक्षा पद्धति के दिन बहुरने के आसार दिखने लगे हैं. वेद शिक्षा को बढावा देने के लिए मोदी सरकार द्वारा नया मसौदा तैयार किया जा रहा है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय और उज्जैन की महर्षि संदिपानी राष्ट्रीय विद्या प्रतिष्ठान के संयुक्त प्रयास से एक नए एग्जामिनेशन बोर्ड की गठन की पहल की गई है. अंग्रेजी दैनिक इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सरकार के तरफ से पांच सदस्यों की एक टीम इसके लिए लगा हुआ है. टीम का नेतृत्व राष्ट्रीय विद्या प्रतिष्ठान के सचिव देवी प्रसाद त्रिपाठी कर रहे हैं.

वैदिक शिक्षा के गठन के लिए तकरीबन छ: करोड़ रुपए की मांग सचिव के द्वारा की गई है. ज्ञात हो कि यह बोर्ड सरकार के अन्य बोर्ड सीबीएसई की तरह ही काम करेगी. महर्षि संदिपानी राष्ट्रीय विद्या प्रतिष्ठान की स्थापना 1987 मे उज्जैन में की गई थी. जिसका मकसद था वैदिक शिक्षा का प्रचार-प्रसार करना. यह संस्थान अपने स्तर पर दसंवी और बारहवीं की परीक्षाएं भी करवाता है, पर उनको फिलाहल कई बड़े संस्थानों द्वारा मान्याता नहीं दी जाती है.

बोर्ड की मान्यता मिलने के बाद वैदिक शिक्षा में अधिक से अधिक छात्रों की रुची लेने की संभावना बढ़ सकती है. फिलहाल इस संस्थान से तकरीबन 10 हजार बच्चे शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं. अगर बोर्च का गछन संभव हुआ तो यह आंकड़ा 40 हजार तक पहुंचने का अनुमान है. जिसमे वेद और संस्कृत को मुख्य विषयों के तौर पर शामिल किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading