लाइव टीवी

News18 Chaupal: नितिन गडकरी ने कहा - कुछ पार्टियों ने 50 साल में मुस्लिमों को ठेली, ट्रक ड्राइवर समेत चार धंधे दिए

News18Hindi
Updated: December 18, 2019, 3:25 PM IST
News18 Chaupal: नितिन गडकरी ने कहा - कुछ पार्टियों ने 50 साल में मुस्लिमों को ठेली, ट्रक ड्राइवर समेत चार धंधे दिए
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि लोगों को पीएम नरेंद्र मोदी का नाम लेकर डराया जा रहा है.

न्यूज18 इंडिया के चौपाल कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री और बीजेपी (BJP) के वरिष्‍ठ नेता नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने गंगा की सफाई (Clean Ganga) पर कहा कि अब गंगा जल साफ नहीं आचमन के लायक हो गया है. अगर ऐसा नहीं होता तो कांग्रेस (Congress) महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) गंगा का पानी नहीं पीतीं. साथ ही कहा कि मैं सपने नहीं दिखाता. मैं दिखाए हुए सपनों को पूरा करता हूं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2019, 3:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी (BJP) के वरिष्‍ठ नेता नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने न्यूज18 इंडिया के चौपाल कार्यक्रम (News 18 Chaupal) में कहा कि कुछ पार्टियों को 50 साल से ज्‍यादा राज करने का मौका मिला. उन्‍होंने मुस्लिमों (Muslims) को क्‍या दिया? उन्‍होंने मुस्लिमों को चाय की टपरी, ठेली, ट्रक ड्राइवर की नौकरी समेत चार धंधे दिए. हम देश के मुसलमानों के खिलाफ नहीं हैं. अगर होते तो गरीब मुसलमानों के लिए इतना काम कैसे कर रहे होते. इस समय जो लोग नागरिकता संशोधित कानून 2019 (CAA 2019) के खिलाफ सड़क पर हैं, उन्‍हें गुमराह किया जा रहा है.

'कांग्रेस खुलकर कहे - वो विदेशी घुसपैठियों के पक्ष में हैं'
नितिन गडकरी ने कहा कि लोगों को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का नाम लेकर डराया जा रहा है. मैं स्‍पष्‍ट कर देना चाहता हूं कि जो 1947 से भारत में रह रहे हैं, वो भारतीय हैं. हमारे परिवार का हिस्सा हैं. इस दौरान उन्‍होंने सवाल उठाया कि क्या अवैध ढंग से देश में घुसे लोगों को वोटिंग राइट देना चाहिए? क्या उन्हें प्रापर्टी खरीदने का अधिकार देना चाहिए? क्‍या उन्‍हें नागरिकता दे देनी चाहिए? क्‍या उन्‍हें सांसद, विधायक बनने का अधिकार देना चाहिए? कांग्रेस साफ क्यों नहीं कहती? एक बार दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा. कांग्रेस खुलकर कहे ना कि वो विदेशी घुसपैठियों को नागरिकता देने के पक्ष में हैं.

'पहले से रही है निर्वासित शरणार्थियों को शरण की नीति'



नागरिकता कानून पर जो लोग नींद में होने का ढोंग रच रहे हैं, उन्हें जगाना मुश्किल है. हम हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसियों को शरणार्थी कहते हैं. बाकी को विदेशी नागरिक कहते हैं. निर्वासित शरणार्थियों को शरण देने की नीति पहले से रही है. पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश से प्रताड़ित होकर आए लोगों को नागरिकता देने का कानून बनाया गया है. हिंदुओं और सिखों के लिए कोई देश नहीं है. दुनिया में हिंदुओं के लिए दूसरे देश के तौर पर अब नेपाल भी नहीं रह गया है. सऊदी के संविधान मे लिखा है कि मुस्लिम को शरण दे सकते हैं, बाकी धर्मों को नहीं. अगर कहीं उन्हें निकाला जाएगा तो हम ही उन्हें अपने यहां लाएंगे.

नितिन गडकरी ने कहा कि नागरिकता कानून पर जो लोग नींद में होने का ढोंग रच रहे हैं, उन्हें जगाना मुश्किल है.


'CAA मानवता, लोकतंत्र और संविधान के आधार पर है'
जब उनसे पूछा गया कि नागरिकता कानून की वजह से अगर 3 करोड़ हिंदू आएंगे तो नौकरी कहां से देंगे तो गडकरी ने कहा, 'इन विषयों के बारे में हम भारत के संविधान का अध्ययन करेंगे तो कन्फ्यूजन नहीं होगा. हम शरणार्थियों को नागरिक सुविधाएं देने के लिए नागरिकता दे रहे हैं. वहीं, असम में कांग्रेस की सरकार ने घुसपैठियों को वोटिंग राइट दे दिया. असम का आंदोलन उसी के विरोध में था. हमने पहले भी तमिल शरणार्थियों को आश्रय दिया. बहुत से तमिल शरणार्थियों को नागरिकता भी मिली है. हमारा कदम मानवता, लोकतंत्र और संविधान के आधार पर जस्टिफाइड है.

'कश्‍मीर के हालात पर फैसला वहां का प्रशासन करेगा'
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) पर फैसला हालात के हिसाब से वहां का प्रशासन जल्द फैसला करेगा. कानून-व्यवस्था वहां के प्रशासन की जिम्मेदारी है. वहां गरीबी और बेरोजगारी की समस्या है. होटल वाले वहां पूंजी लगाने को तैयार हैं. कुछ निवेशक इंस्टीट्यूट खोलना चाहते हैं. वहीं, राजनीतिक रिश्‍तों पर कहा कि राजनीति अलग हैं और निजी रिश्‍ते अलग हैं. मैंने रिश्तों को कभी राजनीति से नहीं जोड़ा, कोई किसी पार्टी में हो, अच्छे दिन हों या बुरे दिन हों, मैं दोस्ती नहीं भूलता और काम के लिए दोस्ती नहीं करता. दोस्ती कैलकुलेशन से नहीं होती. राजनीति में जो मित्र हैं, वो सिर्फ मित्र हैं.

'मैं जो सपने पूरे नहीं कर सकता उन्‍हें नहीं दिखाता'
गडकरी ने कहा कि मैं सिर्फ सपने नहीं दिखाता, उनको पूरे करके दिखाता हूं. सिर्फ उन्हीं पूरे होने वाले सपनों की चर्चा करता हूं. अगर हम दिखाए हुए सपने पूरे नही करते हैं तो लोगों की नाराजगी बढ़ती है. इस मार्च तक हाइवे के 2 लाख करोड़ और अगले मार्च तक 3 लाख करोड़ के काम अवार्ड कर देंगे. वहीं, गंगा की सफाई पर कहा कि अब गंगा जल आचमन योग्‍य हो गया है. कुंभ में गंगा अविरल भी थी और निर्मल भी थी. अगर ऐसा नहीं होता तो कांग्रेस (Congress) महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) गंगा जल का आचमन नहीं करतीं. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रयाग से वाराणसी, वाराणसी से हल्दिया और हल्दिया से बंगाल की खाड़ी तक ड्रेजिंग करके जलमार्ग बनाया गया. दिल्ली सरकार के सहयोग से यमुना को प्रदूषण से मुक्त करने के लिए 6 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट कर रहे हैं. दिल्ली से यमुना के रास्ते मारुति की गाड़ियां नॉर्थ ईस्ट तक जा सकती हैं. हम इस पर भी काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

रंजीत रंजन बोलीं- संविधान की धज्जियां उड़ा रहा केंद्र, सुधांशु ने दिया ये जवाब

News18 Chaupal: विजय गोयल बोले-सारा देश जानता है कि CAA पर अफवाह कौन फैला रहा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2019, 2:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर