Home /News /nation /

News18india Chaupal: असम के सीएम सरमा ने कांग्रेस पर हमला बोला, कहा- परिवार के नाम पर पार्टी नए भारत को स्वीकार नहीं

News18india Chaupal: असम के सीएम सरमा ने कांग्रेस पर हमला बोला, कहा- परिवार के नाम पर पार्टी नए भारत को स्वीकार नहीं

असम के मुख्‍यमंत्री ने कहा, भारत में हिंदू सभ्यता थी और हिंदू सभ्यता ही रहेगी.

असम के मुख्‍यमंत्री ने कहा, भारत में हिंदू सभ्यता थी और हिंदू सभ्यता ही रहेगी.

News18india Chaupal: सरमा ने कहा, 'मैं अगर बोलूं कि मियां वोट दो, क्या वे मुझे वोट देंगे? मुझे पक्का मालूम है कि वे मुझे प्यार नहीं करते, तो क्यों वोट मांगू. मियां का वोट नहीं चाहिए, जिस दिन वे वोट देने के लिए तैयार हो जाएंगे, उस दिन बोलूंगा कि मियां वोट दो. अभी वो स्थिति नहीं है." उन्होंने कहा कि असम में मंदिर के पांच किलोमीटर के दायरे में बीफ़ बैन है, क्योंकि मुझे बीफ़ से तकलीफ़ नहीं, बल्कि गोवध से तकलीफ़ है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. न्यूज18 इंडिया चौपाल कार्यक्रम में पहुंचे असम के मुख्‍यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) ने कहा, ‘मोदी सरकार के कार्यकाल में उत्तर-पूर्व की चर्चा होनी चाहिए. सांप्रदायिक जिसे बोलना है, वो कहता रहे. मेरा फ़ैसला मैं लेता हूं, लेकिन लेफ्ट फ़्रंट के हिसाब से फ़ैसला क्यों करूं. मुझको जो जनादेश मिला है, जो मुझको करना है और जो भारतीय संस्कृति के लिए करना है, उसे करने के लिए ही सत्ता में आया हूं और वो मुझे करना पड़ेगा.’

    सरमा ने गुरुवार को कहा, ‘मदरसों को बंद करने का इरादा है. लगभग सात सौ मदरसे बंद हो चुके हैं, बाक़ी मदरसों को नर्सिंग स्कूल और इंजीनियरिंग कॉलेज में बदलने का इरादा है. मदरसों को स्कूल बना दिया, जिससे असम के लोग ख़ुश हैं. लोग डॉक्टर-इंजीनियर बनना चाहते हैं, लेकिन मदरसों में पढ़ने वाले तो मौलवी बनते हैं, इसलिए बच्चों की राय लेकर मदरसों को सामान्य स्कूल में बदलने का फ़ैसला किया.’

    सरमा ने कहा, ‘मैं अगर बोलूं कि मियां वोट दो, क्या वे मुझे वोट देंगे? मुझे पक्का मालूम है कि वे मुझे प्यार नहीं करते, तो क्यों वोट मांगू. मियां के वोट नहीं चाहिए, जिस दिन वे वोट देने के लिए तैयार हो जाएंगे, उस दिन बोलूंगा कि मियां वोट दो. अभी वो स्थिति नहीं है. असम में मंदिर के पांच किलोमीटर के दायरे में बीफ़ बैन, क्योंकि मुझे बीफ़ से तकलीफ़ नहीं, बल्कि गोवध से तकलीफ़ है. उन्‍होंने कहा, ‘हज़ारों साल से भारत हिंदू समुदाय का देश रहा है और रहेगा, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि दूसरे समुदाय के लोग यहां नहीं रह सकते, हर हिंदुस्तानी हिंदू है, क्योंकि बाबर के आने से पहले सभी हिंदू ही थे.

    असम के मुख्‍यमंत्री ने कहा, ‘भारत में हिंदू सभ्यता थी और हिंदू सभ्यता ही रहेगी. जहां भी हिंदू समुदाय के लोगों को तकलीफ़ होती है, धार्मिक उत्पीड़न होता है, तो उनको अपनी मातृभूमि में लौटने का अधिकार होना चाहिए. इसलिए मैं हमेशा CAA का समर्थन करता हूं.’ असम के मुख्‍यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा, ‘बांग्लादेश के बंगाली हिंदुओं का ममता दीदी भले स्वागत ना करे, लेकिन भाई की बात माननी पड़ेगी. दीदी को भाई की बात माननी पड़ेगी, क्योंकि भारत में भाई की बात ही दीदी को माननी पड़ती है, दीदी की बात भाई नहीं मानते. 2014 कटआफ़ है सीएए का, जिसे मैंने तो नहीं बनाया, लेकिन मेरा मानना है कि सौ-पचास साल आगे भी हिंदुओं को भारत में आने का अधिकार मिलना चाहिए.’ उन्होंने कहा कि मंदिर की बात करने से सांप्रदायिक, लेकिन दूसरे धर्म का स्थान बनाने वाला सेक्युलर हो जाता है. हम सीधे-सीधे हिंदू हैं और हिंदू रहेंगे. हिंदू सभी धर्मों का सम्मान करना जानते हैं.

    असम के मुख्‍यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, ‘कांग्रेस की जो पृष्ठभूमि थी और भारत को देखने का जो नज़रिया था, उससे अब भारत के लोग बाहर निकल चुके हैं. पहले इंदिरा जी की फोटो देखकर लोग वोट डालते थे, लेकिन अभी भारत उनसे आगे निकल गया है. अगर कांग्रेस को बचना है, तो उसे ख़ुद को नए सिरे से खोजना होगा, क्योंकि परिवार के नाम पर पार्टी नए भारत को अब स्वीकार नहीं है. कांग्रेस का वजूद अब सिर्फ़ राज्यों के नेताओं की वजह से बचा हुआ है, ना कि गांधी परिवार की वजह से. राहुल का नेतृत्व स्वीकार क्यों नहीं, ये अमेठी की जनता से पूछिए कि लोगों ने क्यों ठुकरा दिया.’

    Tags: Himanta biswa sarma, News18india Chaupal

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर