नीति आयोग सदस्य वीके पॉल का बड़ा बयान, कोरोना से लड़ाई में अगले तीन सप्ताह निर्णायक

वीके पॉल ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ाई में अगले तीन सप्ताह निर्णायक हैं. ANI

वीके पॉल ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ाई में अगले तीन सप्ताह निर्णायक हैं. ANI

NITI Aayog member Dr VK Paul ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में अगले तीन सप्ताह बेहद निर्णायक हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 5:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. स्वास्थ्य के मामले में नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ाई में अगले तीन सप्ताह निर्णायक हैं. पॉल के अलावा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार को कहा कि कोरोना कि वजह से मृत्यु दर कम हो रही है और इसमें कमी आई है. साथ ही कोरोना पर लगातार सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं. उन्होंने कहा कि महामारी को लेकर बने दहशत के माहौल के बीच लोगों को सही जानकारी मिलनी चाहिए और उनको सही सलाह मिलनी जरुरी है.

हर्षवर्धन ने कहा कि देश में कोरोना के चलते प्रतिकूल स्थिति के बीच मृत्यु दर 1.18 प्रतिशत है. महज 1.75 प्रतिशत लोग आईसीयू में हैं, जबकि 0.40 प्रतिशत वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं. इसी तरह 4.03 फीसदी मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पिछले 3 से 4 दिनों में 800 से अधिक नॉन आईसीयू ऑक्सजीन बेड जोड़े गए हैं. डीआरडीओ और सीएसआईआर ने दिल्ली में बेड की सुविधा बढ़ाई है. सफदरजंग और लेडी हॉर्डिंग में नए बेड बढ़ा रहे हैं. ऐसा ही एम्स में भी किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि पिछले साल 80 फीसदी लोगों का होम आइसोलेशन में इलाज किया गया था. हम लगातार सुविधाएं बढ़ा रहे हैं. अस्पतालों में अस्थायी बेड बढ़ाए जा रहे हैं. मैनपावर को बढ़ाया जा रहा है. हर्षवर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना योद्धा की तरह काम कर रहे हैं और कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए लगातार हालात पर नजर बनाए रखे हुए हैं.

उन्होंने कहा कि देश में 12 हजार से ज्यादा क्वारंटीन सेंटर काम कर रहे हैं. अस्थायी अस्पताल बनाए जा रहे हैं और इन सब पर प्रधानमंत्री खुद निगाह रखे हुए हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री लगातार बैठकें कर रहे हैं. टीकाकरण कार्यक्रम तेजी से चल रहा है और अभी तक 12.71 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन का टीका लगाया गया है.


उन्होंने कहा कि 2021 में पुराना अनुभव काम आएगा. डॉक्टरों और नर्सों को ट्रेनिंग दी जाएगी. सरकार पूरी तरह सजग है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज