यूपी में 1320 मेगावाट की परियोजना को मिली पर्यावरण मंजूरी को रद्द करने से NGT का इनकार

एनजीटी ने मंजूरी को रद्द करने से किया इनकार.
एनजीटी ने मंजूरी को रद्द करने से किया इनकार.

एनजीटी एक याचिका पर सुनवाई कर रहा था जिसमें यूपी के बुलंदशहर में करोड़ों रुपए की लागत से बनने वाली इस परियोजना को दी गई पर्यावरण मंजूरी को रद्द करने की मांग की गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 2:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल यानी एनजीटी ने उत्तर प्रदेश (Uttar pradesh) में 1320 मेगावाट की कोयला आधारित खुर्जा थर्मल इलेक्ट्रिक परियोजना को दी गई पर्यावरण मंजूरी को रद्द करने से इनकार कर दिया है. इस दौरान एनजीटी (NGT) ने कहा है कि वायु और जल प्रदूषण से होने वाली परेशानियों का इस मामले में विधिवत समाधान किया गया है.

मामले की सुनवाई करते हुए एनजीटी ने कहा इस मामले में पर्यावरण प्रभाव आकलन 2006 के नोटिफिकेशन के अनुसार निर्धारित प्रक्रिया का पूरा पालन किया गया है. एक मान्यता प्राप्त सलाहकार की मदद से सभी पर्यावरण संबंधित मुद्दों से विस्तृत की ईआईए रिपोर्ट तैयार की गई है. मामले की सुनवाई करते हुए एनजीटी ने कहा कि इस मामले में जनसुनवाई नियमों के मुताबिक ही कार्रवाई की गई थी.

पहली बैठक में विशेषज्ञ मूल्यांकन समिति ने स्पष्टीकरण मांगा और ईआईए रिपोर्ट को उसी तरह स्वीकार नहीं किया. इसके साथ ही दूसरी बैठक में स्पष्टीकरण का विधिवत मूल्यांकन किया गया है. मामले की सुनवाई के दौरान एनजीटी ने कहा वाटर और वायु प्रदूषण की चिंताओं का इस मामले में विधिवत समाधान किया गया है. इसलिए हमें पर्यावरण मंजूरी रद्द करने का कोई आधार इस मामले में नहीं मिला है. एनजीटी के चेयरपर्सन एके गोयल की बेंच ने निर्देश दिया कि पर्यावरण मंजूरी से संबंधित सभी शर्तों का अनुपालन किया जाना चाहिए और इसकी विधिवत निगरानी भी की जानी चाहिए.

आपको बता दें एनजीटी एक गैर सरकारी संगठन सेफ की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई कर रहा था जिसमें यूपी के बुलंदशहर में करोड़ों रुपए की लागत से बनने वाली इस परियोजना को दी गई पर्यावरण मंजूरी को रद्द करने की मांग की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज