अपना शहर चुनें

States

आतंकी संगठन ‘शहादत हमारा मकसद’ के एक सदस्य को NIA ने पकड़ा

NIA ने  तमिलनाडु के कुड्डालोर जिले के रहने वाले मोहम्मद राशिद  को गिरफ्तार किया(सांकेतिक तस्वीर)
NIA ने तमिलनाडु के कुड्डालोर जिले के रहने वाले मोहम्मद राशिद को गिरफ्तार किया(सांकेतिक तस्वीर)

एनआईए ने तमिलनाडु में शहादत हमारा मकसद संगठन से जुड़े एक सदस्य को गिरफ्तार किया है. मोहम्मद राशिद को चेन्नई में एक विशेष एनआईए अदालत के समक्ष पेश किया गया जहां अदालत ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

  • Last Updated: January 22, 2021, 1:18 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (National Investigation Agency) ने गुरुवार को एक ‘‘जिहादी’’ गिरोह ‘‘शहादत हमारा मकसद’’ के एक सक्रिय सदस्य को तमिलनाडु (Tamilnadu) से गिरफ्तार किया. एक अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि उसे शरिया की स्थापना के प्रयासों के तहत दक्षिणी राज्य में एक हिंसक ‘‘जिहाद’’ छेड़ने की साजिश में कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने बताया कि तमिलनाडु के कुड्डालोर जिले के रहने वाले मोहम्मद राशिद को गिरफ्तार किया गया और चेन्नई में एक विशेष एनआईए अदालत के समक्ष पेश किया गया. अदालत ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

एनआईए के एक प्रवक्ता ने बताया कि मोहम्मद रिफ़ास, एम अहमद और अबुपाकर सिथिक की गिरफ्तारी के बाद भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं, गैर कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम और सशस्त अधिनियम के तहत तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले में अप्रैल 2018 में मामला दर्ज किया गया था. अधिकारी ने बताया कि आतंकवादी गिरोह ‘‘शहादत हमारा मकसद’’ से संबंधित पर्चों और तलवार सहित घातक हथियार उनके पास से बरामद किये गये थे.

ये भी पढ़ें- कोरोना के खिलाफ भारत का विश्व में सबसे तेज वैक्सीनेशन,करीब10 लाख लोगों को टीका



उन्होंने कहा कि जांच के दौरान एनआईए ने अन्य आरोपियों - शेख दाऊद, अहमद इम्तिश, हमीद असफर, लियाकत अली, साजिथ अहमद और रिजवान मोहम्मद को भी गिरफ्तार किया था, जिसके बाद एनआईए ने जनवरी 2019 में मामला फिर से दर्ज किया.
कई हिंसक वारदातों को अंजाम देने के लिए की थीं षड्यंत्रकारी बैठकें
अधिकारी ने कहा कि एनआईए द्वारा मई 2019 में आरोपियों के परिसरों में तलाशी ली गई और राशिद की पहचान आतंकवादी गिरोह के सक्रिय सदस्य के रूप में की गई.



एनआईए प्रवक्ता ने कहा कि जब्त किए गए डिजिटल उपकरणों और उनके ई-मेल और सोशल मीडिया अकाउंट्स से फॉरेंसिकली-रिकवर किए गए डेटा की जांच से पता चला है कि राशिद सहित आरोपियों ने दाऊद और रिफास के नेतृत्व में कई हिंसक वारदातों को अंजाम देने के इरादे से कई षड्यंत्रकारी बैठकें की थीं. जिसमें कि तमिलनाडु में शरिया (इस्लामिक कानून) स्थापित करने के उनके प्रयासों के हिस्से के रूप में जिहाद (पवित्र युद्ध) करना शामिल था.

अधिकारी ने कहा कि साजिश का पीछा करते हुए, अवैध आग्नेयास्त्रों की खरीद का भी प्रयास किया गया था, अधिकारी ने कहा कि मामले में आगे की जांच चल रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज