IS के लिए लड़ने वाले सुब्हानी हाजा को NIA कोर्ट ने माना दोषी, सोमवार को सजा का ऐलान

गिरफ्तारी के बाद हुई पूछताछ के दौरान सुब्हानी हाजा मोइदीन के आतंकियों के कनेक्शन और उसके नेटवर्क के बारे में जब पूछताछ की गई
गिरफ्तारी के बाद हुई पूछताछ के दौरान सुब्हानी हाजा मोइदीन के आतंकियों के कनेक्शन और उसके नेटवर्क के बारे में जब पूछताछ की गई

Subhani Haja Moideen guilty : केरल मूल के रहने वाले आतंकी आतंकी सुब्हानी हाजा मोइदीन पर आरोप है कि वो आतंकी संगठन में शामिल होने के लिए इराक गया था. साल 2015 में वो वापस भारत लौटा और भारत के अंदर आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने में जुट गया. सुब्हानी आतंकी संगठन ISIS से विशेष तौर पर प्रशिक्षण लेकर भारत लौटा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2020, 10:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने आतंकी संगठन आईएसआईएस (ISIS) से जुड़े आतंकी सुब्हानी हाजा मोइदीन (Subhani Haja Moideen) को भारत सरकार (Indian government) के खिलाफ युद्ध छेड़ने और आतंकी गतिविधियों में शामिल होने का आरोपी माना है. शुक्रवार को एर्नाकुलम स्थित एनआईए की विशेष कोर्ट में हुई सुनवाई के दौराम कहा कि मोइदीन इस मामले में दोषी है. अब कोर्ट इस मामले पर सोमवार को सुनवाई करेगा और मोइदीन को सजा सुनाई जाएगी.

केरल मूल के रहने वाले आतंकी आतंकी सुब्हानी हाजा मोइदीन पर आरोप है कि वो आतंकी संगठन में शामिल होने के लिए इराक गया था. साल 2015 में वो वापस भारत लौटा और भारत के अंदर आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने में जुट गया. सुब्हानी आतंकी संगठन ISIS से विशेष तौर पर प्रशिक्षण लेकर भारत लौटा था. हालांकि जब वो साल 2015 में इराक से लौटा था, तब से ही भारतीय जांच एजेंसी को इस बात की भनक लग चुकी थी. लिहाजा मामले की गंभीरता को देखते हुए उसके खिलाफ आंतरिक तौर पर तफ्तीश करवाई जा रही थी.

2016 में हुई थी मोइदीन की गिरफ्तारी
जांच एजेंसी एनआईए को काफी महत्वपूर्ण जानकारी मिलने के बाद आखिरकार उसे तमिलनाडु की स्थानीय पुलिस के साथ ज्वाइंट ऑपरेशन को अंजाम देते हुए उसे साल 2016 में गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तारी के बाद हुई उससे पूछताछ के दौरान उसने इस बात को स्वीकार किया कि देश में कई स्थानों पर आतंकी वारदात करने का स्क्रिप्ट उसका तैयार था. इसके साथ ही कुछ महत्वपूर्ण और राजनीतिक लोगों की हत्या करने की भी साजिश थी. एनआईए के द्वारा हुई इस कार्रवाई के बाद कई बड़ी प्लानिंग आतंकियों की फेल हो गई थी.
मोइदीन के बाद हुई कई आरोपियों की गिरफ्तारी


एनआईए के अधिकारियों के मुताबिक, गिरफ्तारी के बाद हुई पूछताछ के दौरान सुब्हानी हाजा मोइदीन के आतंकियों के कनेक्शन और उसके नेटवर्क के बारे में जब पूछताछ की गई तो उसका सोशल मीडिया के मार्फत भारत सरकार के खिलाफ युद्ध जैसी स्थित और देश के अंदर आतंकी गतिविधियों के लिए उसके सोशल मीडिया मॉड्यूल के बारे में जानकारी प्राप्त हुई. जिसके बाद कई अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी भी हुई. एनआईए इस मामले की तफ्तीश के बाद कोर्ट में आरोप पत्र भी दायर कर चुकी है.

क्या उद्देश्य है उमर-अल-हिंदी नाम का आतंकी संगठन का ?
एनआईए के अधिकारी के मुताबिक सुब्हानी भारत में आतंकी संगठन उमर-अल-हिंदी संगठन से जुड़ा था. जो एक तरह से आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट का देसी संस्करण कहा जा सकता है. इस संगठन का उद्देश्य भी वही था जो इस्लामिक स्टेट संगठन का था. उमर-अल -हिंदी संगठन का मूल उद्देश्य भारत के अंदर जेहादी तत्वों को तैयार करना और देश के अंदर ही जिहाद को छेड़ना था. इसलिए इस संगठन में काफी संख्या में मुस्लिम युवाओं को भर्ती करके उसको बरगलाने का काम किया जा रहा था. इसके लिए शुरुआत केरल और तमिलनाडु से की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज