PAK में ली कश्मीरी युवकों ने ली आतंकी बनने की ट्रेनिंग, फिर बने स्पीलर सेल और...

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

इन युवाओं के खिलाफ जांच में एनआईए ने पाया कि 2016-18 के दौरान अलगाववादी नेताओं द्वारा आतंकवादी समूहों के कमांडरों की सक्रिय सहायता से आतंकवादी प्रशिक्षण के लिए वैध यात्रा दस्तावेजों पर कई कश्मीरी युवकों को पाकिस्तान भेजा गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 6:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) में भर्ती होने के मामले में जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के कुलगाम (Kulgam) के 3 लोगों के खिलाफ विशेष अदालत में आरोप पत्र दायर किया है. एनआईए ने मुनीब हमीद भट, जुनैद अहमद मट्टू और उमर रशीद वानी के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है. एनआईए की ओर से दायर किए गए आरोप पत्र में कहा गया है कि इन कश्मीरी युवाओं ने 5 से 15 दिनों तक पाकिस्तान के आतंकवादी शिविरों में ट्रेनिंग ली. जब ये तीनों युवक वापस कश्मीर लौटे तो आतंकवादी संगठनों द्वारा पहले इनका स्लीपर सेल के रूप में उपयोग किया जाता है और बाद में सक्रिय उग्रवाद में शामिल किया गया.

इन युवाओं के खिलाफ जांच में एनआईए ने पाया कि 2016-18 के दौरान अलगाववादी नेताओं द्वारा आतंकवादी समूहों के कमांडरों की सक्रिय सहायता से आतंकवादी प्रशिक्षण के लिए वैध यात्रा दस्तावेजों पर कई कश्मीरी युवकों को पाकिस्तान भेजा गया.

एनआईए द्वारा की गई जांच में पता चला है कि मट्टू ने भट को लश्कर में शामिल होने और आतंकवादी प्रशिक्षण के लिए पाकिस्तान जाने के लिए प्रेरित किया और वानी ने उसे पाकिस्तान यात्रा के खर्चों को पूरा करने के लिए धन दिया. जुलाई-अगस्त 2017 में, भट ने अलगाववादी नेताओं की सहायता से आतंकवादी प्रशिक्षण के लिए वैध यात्रा दस्तावेजों पर पाकिस्तान का दौरा किया. उसे हथियारों का प्रशिक्षण दिया गया और गुप्त सोशल मीडिया चैट प्लेटफार्मों का उपयोग करने का प्रशिक्षण भी दिया गया.




अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज