जम्मू-कश्मीर: निलंबित DSP देवेंद्र सिंह के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, इन आतंकियों के नाम भी शामिल

जम्मू-कश्मीर: निलंबित DSP देवेंद्र सिंह के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, इन आतंकियों के नाम भी शामिल
जम्मू कश्मीर पुलिस ने देवेंद्र सिंह के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की है फोटो साभारः PTI

एनआईए (NIA) द्वारा दायर इस आरोप पत्र (Chargesheet) में सैयद नावेद मुस्ताक उर्फ नावेद बाबू , इरफान शैफी मीर उर्फ वकील, के साथ निलंबित डीएसपी देवेन्द्र सिंह (Devender Singh) का भी नाम है.

  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर पुलिस (Jammu Kashmir Police) में कार्यरत रहे पूर्व और निलंबित डीएसपी देवेन्द्र सिंह (Devender Singh) से जुड़े एक मामले में कोर्ट में एक आरोप पत्र (Charge Sheet) दायर किया गया है. ये आरोप पत्र केन्द्रीय जांच एजेंसी एनआईए (NIA) ने अपनी तफ्तीश रिपोर्ट के बाद दायर किया है. दरअसल ये मामला आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahideen) के नावेद बाबू सहित कई आतंकियों से जुड़ा हुआ है. एनआईए द्वारा दायर इस आरोप पत्र में सैयद नावेद मुस्ताक उर्फ नावेद बाबू , इरफान शैफी मीर उर्फ वकील, के साथ निलंबित डीएसपी देवेन्द्र सिंह का भी नाम है.

एनआईए के अधिकारियों के मुताबिक आरोपपत्र में आतंकी तनवीर अहमद वानी का भी नाम शामिल है जो पहले LOC वाले इलाके में कारोबारी भी रह चुका है. एनआईए ने तनवीर के खिलाफ कई सबूतों और गवाहों के आधार पर उसको भी इस मामले में दोषी माना है. हालांकि इस मामले में कोर्ट में मामला लंबित पड़ा हुआ है. एनआईए की टीम ने इस मामले की तफ्तीश के दौरान आतंकी नावेद बाबू के भाई सैयद इरफान अहमद की भूमिका को भी काफी संदिग्ध माना है, लिहाजा मामले की गंभीरता को देखते हुए उसे भी आरोपियों की श्रेणी मे रखा गया है.

ये भी पढ़ें- खाड़ी देशों में बसे भारतीयों को लौटना पड़ा, तो कितना नुकसान होगा?



कौन है आतंकी नावेद बाबू और देवेन्द्र सिंह से क्या है उसका रिश्ता?
आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का कमांडर रह चुका नावेद बाबू का असली नाम सैयद नावेद मुश्ताक है. इसके बारे में एनआईए के जांचकर्ता ये भी बताते हैं की नावेद साल 2017 तक पुलिस में सिपाही पद पर भी काम कर चुका था. इसके साथ ही ये कश्मीर स्थित बड़गाम में एक फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (FCI ) कंपनी में काम करता था. FCI कंपनी के एक मालगोदाम में तैनाती के दौरान वह चार राइफल लेकर फरार हो गया था. साल 2019 मे जब कश्मीर से पूर्व डीएसपी देवेन्द्र सिंह को आतंकियों के साथ सांठगांठ के चलते गिरफ्तार किया गया था, उस वक्त नावेद मुश्ताक भी साथ में था. इसके साथ ही इरफान शफी मीर नाम का आतंकी साथ में था, जो ड्राइवर बनकर आई 20 कार चला रहा था. इसी कार में हथियार भी बरामद हुए थे.

आतंकी रफी उर्फ माज बेई के बारे में अगर कहा जाए तो वो आईडी (IED) बम बनाने में विशेषज्ञ है. इन आतंकियों का आपस में काफी करीबी संबंध रहा है. इसी मामले में कश्मीर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को गुप्त सूचना मिली थी कि पूर्व डीएसपी देवेन्द्र सिंह का कई आतंकियों के साथ काफी करीबी संबंध रहा है. इसी मामले पर जब उसके खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस के जरिए भी नजर रखी जा रही थी. इसी दौरान मौका मिलते ही जब देवेन्द्र सिंह तीन आतंकियों के साथ जा रहा था, उसी दौरान उन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था. उसके बाद मामले की गंभीरता को देखते हुए एनआईए की टीम ने छापेमारी भी की और कई महत्वपूर्ण दस्तावेज और सबूतों को भी इकट्ठा किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज