अहमदाबाद समेत गुजरात के अन्य शहरों में 15 दिन और बढ़ा नाइट कर्फ्यू

गुजरात में कोरोना मामलों तेजी आई है. (सांकेतिक फोटो)

गुजरात में कोरोना मामलों तेजी आई है. (सांकेतिक फोटो)

अहमदाबाद के अलावा सूरत, वडोदरा और राजकोट जैसे शहरों में अब 15 अप्रैल तक रात के 9 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) लागू रहेगा. इन्हीं चार शहरों में राज्य के 70 प्रतिशत से ज्यादा केस हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 6:08 PM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर गुजरात (Gujarat) में अहमदाबाद समेत अन्य शहरों में नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) को 15 दिनों के लिए और बढ़ा दिया गया है. अहमदाबाद के अलावा सूरत, वडोदरा और राजकोट जैसे शहरों में अब 15 अप्रैल तक रात के 9 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा. इन्हीं चार शहरों में राज्य के 70 प्रतिशत से ज्यादा केस हैं.

इसके अलावा राज्य सरकार ने केंद्र द्वारा कोरोना नियंत्रण के लिए जारी की गई गाइडलाइंस के सख्ती से पालन के आदेश दिए हैं. बता दें देश में तेजी से बढ़ते कोरोना मामलों के बीच केंद्र सरकार ने राज्यों से ज्यादा सघन कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग करने को कहा है. सरकार ने कहा है कि प्रत्येक कोरोना केस पर कम से 25 से 30 लोगों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जानी चाहिए. इसके अलावा आइसोलेशन सेंटर्स की बेहतर व्यवस्था किए जाने की जरूरत है. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए जिला केंद्रित रणनीति तैयार करने पर जोर दिया है.

Youtube Video


जिम्मेदारी तय किए जाने पर जोर दिया गया 
राजेश भूषण ने कहा है कि प्रत्येक जिले को केस बढ़ने पर एक एक्शन प्लान के तहत काम करना चाहिए जिसे समयसीमा के आधार पर पूरा किया जाए. कोरोना के मामलों को रोकने के लिए जिम्मेदारी तय किए जाने पर जोर दिया गया है. उन्होंने कहा, 'जिन जगहों पर अधिक संख्या में केस मिल रहे हैं वहां पर बड़े कंटेनमेंट जोन बनाने होंगे. साथ ही कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की प्रक्रिया को और अधिक विस्तृत-सघन बनाना होगा.'

1 अप्रैल से कोविड-19 नेगेटिव प्रमाण पत्र देना अनिवार्य

तीन दिन पहले फैसला किया गया था कि गुजरात में दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों के लिए एक अप्रैल से आरटी-पीसीआर जांच कराना और कोविड-19 मुक्त होने का प्रमाण पत्र देना अनिवार्य होगा. इससे पहले, प्रदेश सरकार ने यह नियम केवल पड़ोसी महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों के लिए बनाया था जो कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित है. राज्य स्वास्थ्य विभाग ने अधिसूचना में कहा, ‘कई राज्यों में कोरोना वायरस से संक्रमण की दर बढ़ रही है. यह भी देखा गया है कि यात्रा करने वालों के संक्रमित होने की आशंका अधिक है.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज