Assembly Banner 2021

कोरोना विस्फोट: अब कर्नाटक के 8 जिलों में नाइट कर्फ्यू, यूपी में भी हुआ बुरा हाल

कोरोना वायरस की वजह से लगातार नाइट कर्फ्यू लगाने का ऐलान हो रहा है.  (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना वायरस की वजह से लगातार नाइट कर्फ्यू लगाने का ऐलान हो रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

10 से लेकर 20 अप्रैल तक कर्नाटक (Karnataka) के बेंगलुरु, मैसूर, मेंगलुरु, कलबर्गी, बिदर, तुमकुरु, उदूपी और मनिपाल में नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा. इस दौरान मूलभूत सेवाएं जारी रहेंगी. अब तक यूपी (Uttar Pradesh) के आठ बड़े शहरों में नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया जा चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 8, 2021, 10:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना के बढ़ते मामलों (Rising Covid Cases) के मद्देनजर राज्य अब सख्त कदम उठाने लगे हैं. इसी क्रम में दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक (Karnataka) ने कई जिलों में नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) की घोषणा की है. 10 से लेकर 20 अप्रैल तक राज्य के बेंगलुरु, मैसूर, मेंगलुरु, कलबर्गी, बिदर, तुमकुरु, उदूपी और मनिपाल में नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा. इस दौरान मूलभूत सेवाएं जारी रहेंगी.

वहीं अब तक यूपी के आठ बड़े शहरों में नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया जा चुका है. बरेली-मेरठ से पहले लखनऊ, वाराणसी, कानपुर, प्रयागराज, नोएडा और गाजियाबाद में नाइट कर्फ्यू लगाने की घोषणा हो चुकी है. नाइट कर्फ्यू लगाने की शुरुआत बीते महीने महाराष्ट्र के जिलों से शुरू की गई थी लेकिन अब धीरे-धीरे कई राज्यों में इसका फैसला किया जा रहा है.

मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम की बैठक
गुरुवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में पीएम मोदी ने भी संपूर्ण लॉकडाउन की जरूरत से अभी इंकार किया है. उन्होंने नाइट कर्फ्यू को पर्याप्त बताया है. बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने टेस्ट, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट का मंत्र दिया. पीएम मोदी ने कहा कि आज वैक्सीन से ज्यादा हमें टेस्टिंग पर बल देने की जरूरत है. टेस्टिंग और ट्रेकिंग की बहुत बड़ी भूमिका है. टेस्टिंग को हमें हल्के में नहीं लेना होगा.
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना के मरीजों के बढ़ने पर राज्य दबाव में ना आएं. उन्होंने कहा कि कोरोना के टेस्ट सही ढंग से किए जाएं. कंटेनमेंट जोन में हर व्यक्ति की जांच हो. उन्होंने कहा कि जहां संख्या ज्यादा है वहां पर ज्यादा टेस्ट हो रहे हैं.



वैक्सीन पर आरोप-प्रत्यारोप
गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राज्यों और केंद्र के बीच वैक्सीन की आपूर्ति को लेकर भी आरोप-प्रत्यारोप हुआ है. महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ की तरफ से केंद्र सरकार पर आरोप लगाए गए हैं. वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन ने इन दोनों राज्यों की कोरोना के खिलाफ ठीक से कदम न उठाने पर आलोचना की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज