Home /News /nation /

Nimesulide and Paracetamol Tablet: अगर अपने मन से सुमो, निमप्रेक्स, डोलामाइड लेते हैं तो भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम, ये हैं खतरे

Nimesulide and Paracetamol Tablet: अगर अपने मन से सुमो, निमप्रेक्स, डोलामाइड लेते हैं तो भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम, ये हैं खतरे

प्रीग्नेंसी में सुमो का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए. (Shutterstock)

प्रीग्नेंसी में सुमो का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए. (Shutterstock)

nimesulide and paracetamol tablet side effects: जब भी हमें बुखार (Fiver) या शरीर में दर्द (Pain) महसूस होता है तो हम आनन-फानन में बिना सोचे-समझे Sumo, Nimprex-P, Nimsaid-P, Dolamide, Nimeson P, Nimica Plus जैसी दवा खा लेते हैं. लेकिन इन दवाइयों के गंभीर परिणाम हैं. खासकर जिन लोगों को लिवर (Liver) या किडनी (Kidney) की समस्या है, उनके लिए यह दवा बहुत ही नुकसानदेह है. इसके अलावा इस दवा का ओवरडोज शरीर पर बहुत बुरा असर करता है.

अधिक पढ़ें ...

Nimesulide and Paracetamol Tablet: अक्सर हमें सिर दर्द, बदन दर्द, दांत दर्द, माइग्रेन आदि का सामना करना पड़ता है. इन स्थितियों में हम मेडिकल शॉप पर चले जाते हैं और Sumo Nimprex P Nimsaid P Dolamide Nimeson P Nimica Plus आदि दवा ले लेते हैं. हम बिना सोचे समझें इन दवाओं का सेवन करते हैं. हम तनिक भी नहीं सोचते कि इसका दुष्परिणाम कितना भयानक है. दरअसल ऐसी दवाइयां दो तरह के कंपोनेंट से बनती हैं पेरासिटामोल (Paracetamol )और निमेसुलाइड (Nimesulide ) से. निमेसुलाइड में एरोमेटिक इथर होता है जबकि पेरासिटामोल में 4-एमिनोफिनॉल कंपोनेंट रहता है. इन दोनों दवा के कंबिनेशन से सुमो या डोलामाइड जैसी दवा तैयार की जाती है. इन दवाओं के मनमाने इस्तेमाल से लिवर, किडनी, हार्ट (Liver, Kidney, Heart) में स्थायी समस्याएं पैदा हो सकती है. इसके अलावा तात्कालिक रूप से भी इसके गंभीर परिणाम सामने आते हैं.

कब ली जाती है ये दवाइयां
आमतौर पर बुखार, सिर दर्द, माइग्रेन, मसल्स पेन, दांतों में दर्द, ऑर्थराइटिस पेन, स्पॉन्डाइलिट्स, ऑस्टियोऑर्थराइटिस, पीरियड का दर्द आदि में निमेसुलाइड और पेरासिटमोल की कंपोजिशन वाली दवाई ली जाती है. इसे डॉक्टर भी सलाह देते हैं और खुद भी लेते हैं.

कैसे काम करती है यह दवा
जब हम अपनी क्षमता से ज्यादा काम करते हैं या शरीर में किसी तरह की अन्य गड़बड़ियां होती हैं तो दिमाग कुछ केमिकल को सक्रिय होने का संदेश देता है. इसे न्यूरोट्रांसमीटर केमिकल मेसेंजर कहा जाता है. पेरासिटामोल और निमेसुलाइड इस संदेश को रोक देता है.

तात्कालिक साइड इफेक्ट
पेट में दर्द, एसिडिटी, चक्कर आना, स्किन पर रेशेज, मतली, उल्टी, बेचैनी, मतिभ्रम, डायरिया, दिमाग सून्न हो जाना आदि.

लंबे समय वाले असर
निमेसुलाइड और पेरासिटामोल कंपोजिशन वाली दवाई शरीर में लंबे समय तक असर कर सकती है. यह दोनों दवाई लिवर के लिए नुकसानदेह है. यह लिवर में एसिटिक मैटेरियल को बढ़ा सकती है जिसके कारण लिवर की परेशानी सामने आ सकती है. इसके अलावा यह पेट में कई समस्याओं को जन्म दे सकती है. स्टोमेक ब्लीडिंग का भी यह दवा कारण बन सकती है. लंबे समय तक इसका सेवन करने से किडनी और हार्ट की बीमारियों का जोखिम बढ़ सकता है.

किन लोगों बिल्कुल भी नहीं लेनी चाहिए ये दवा

  • जो लोग अल्कोहल का सेवन करते हैं उन्हें सुमो जैसी दवाओं का सेवन करने की सलाह बिल्कुल नहीं दी जाती है.
  • प्रीग्नेंसी में सुमो का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए. इससे बच्चे में ऑटिज्म हो सकता है या अन्य तरह की जटिलताएं आ सकती हैं.
  • जो महिलाएं स्तनपान करा रही हैं उसे भी यह दवा नहीं लेनी चाहिए.
  • इस दवा को खाने से भ्रम की स्थिति बन सकती है इसलिए दवा खाने के बाद ड्राइविंग बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए.
  • जिसे किडनी और लिवर की प्रोब्लम है उसे यह दवा बिल्कुल भी नहीं खानी चाहिए.
  • 12 साल से छोटे बच्चे को यह दवा बिल्कुल भी नहीं देनी चाहिए.
  • अल्कोहल के साथ इस दवा को कभी नहीं लेनी चाहिए.
  • जिसे एलर्जी, स्किन रेशेज, फेस, लिप्स, गला आदि में खुजली है, उसे भी यह दवा नहीं लेनी चाहिए.
  • उपरोक्त परिस्थितियों में कभी भी बिना डॉक्टर की सलाह से यह दवा नहीं लेनी चाहिए.

Tags: Health

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर