Home /News /nation /

भारत में टीकाकरण के नौ महीने : 69 फीसद वयस्‍कों को मिली कम से कम एक खुराक

भारत में टीकाकरण के नौ महीने : 69 फीसद वयस्‍कों को मिली कम से कम एक खुराक

भारत में हर दिन एक करोड़ वैक्‍सीन लगाए जाने का लक्ष्‍य जल्‍द पूरा होगा. (सांकेतिक तस्वीर)

भारत में हर दिन एक करोड़ वैक्‍सीन लगाए जाने का लक्ष्‍य जल्‍द पूरा होगा. (सांकेतिक तस्वीर)

भारत ने सितंबर महीने के खत्‍म होते ही कोविड वैक्‍सीन टीकाकरण अभियान (India covid vaccination drive) के सफल नौ महीने पूरे कर लिए हैं. इस अभियान में कोविड-19 वैक्‍सीन (Covid-19 vaccine) की 89 करोड़ डोज लगायी जा चुकी हैं. इसमें करीब 23,87,23,405 व्‍यक्तियों, यानी वयस्‍क भारतीय आबादी का 25.4 प्रतिशत और भारत की कुल आबादी का 17.5 प्रतिशत, को अब तक पूरी तरह से टीका लगाया जा चुका है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. भारत ने सितंबर महीने के खत्‍म होते ही कोविड वैक्‍सीन टीकाकरण अभियान (India covid vaccination drive) के सफल नौ महीने पूरे कर लिए हैं. इस अभियान में कोविड-19 वैक्‍सीन (Covid-19 vaccine) की 89 करोड़ डोज लगाए जा चुके हैं. इसमें करीब 23,87,23,405 व्‍यक्तियों, यानी वयस्‍क भारतीय आबादी का 25.4 प्रतिशत और भारत की कुल आबादी का 17.5 प्रतिशत, को अब तक पूरी तरह से टीका लगाया जा चुका है. भारत का लक्ष्‍य है कि यहां दिसंबर तक सभी वयस्‍कों को टीका लगा दिया जाए.

    वर्तमान में भारत में लगाए जा रहे सभी कोविड वैक्‍सीन को दो-दो खुराकों में लगाया जा रहा है. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की माने तो भारत में अब तक 69 फीसद से अधिक वयस्‍कों को टीका लगाया जा चुका है. इसके अनुसार करीब 65 करोड़ व्‍यक्तियों को टीके की कम से कम एक खुराक लगाई जा चुकी है.

    भारत के टीकाकरण अभियान में जुलाई 2021 के बाद तेजी से बदलाव आया है. एक समय विनाशकारी कोविड की दूसरी लहर के दौरान वैक्‍सीन की कमी देखी गई थी. वहीं, अगस्त और सितंबर में हर महीने लगभग 5 करोड़ टीके और लगाए. आंकड़ों के अनुसार सितंबर में 23.60 करोड़ खुराकें दी गईं. अगस्त में 18.38 करोड़ खुराक दी गईं, जबकि जुलाई में 13.45 करोड़ खुराकें दी गई थीं.

    ये भी पढ़ें : एक ऐसा कोरोना टीका जिसके लगने पर नहीं निकलेगा खून… जल्द ही आएगी पहली डीएनए वैक्सीन

    जुलाई से 81 प्रतिशत की वृद्धि
    भारत को अगस्त तक प्रतिदिन लगभग 1 करोड़ लोगों के टीकाकरण करने की उम्मीद की थी. हालांकि  पिछले महीने उस लक्ष्य को हासिल करने में विफल रहा. लेकिन आगे स्थितियां सकारात्मक दिख रही हैं. 27 अगस्त को, भारत ने पहली बार 1 करोड़ दैनिक टीकाकरण करते हुए, एक बड़ा मील का पत्थर पार किया और तब से इसे चार बार दोहरा दिया है. 17 सितंबर को, 2.15 करोड़ से अधिक लोगों को कोविड वैक्सीन से जोड़ा गया. प्रतिदिन लगायी जा रही वैक्‍सीन की संख्‍या में उल्‍लेखनीय वृद्धि हुई है. जुलाई में औसतन 43.41 लाख लोगों को प्रतिदिन टीका लगाया गया. अगस्त में यह बढ़कर 59.29 लाख और सितंबर में 78.69 लाख हो गया, जो जुलाई के बाद से 81 फीसदी ज्यादा है. बाद में दी जाने वाली 10 करोड़ खुराक के बीच की अवधि में भी भारी कमी आई है. जहां भारत को पहले 10 करोड़ टीकाकरण तक पहुंचने में 85 दिन लगे, वहीं अंतिम 10 करोड़ खुराक, 70 से 80 करोड़ के बीच, केवल 11 दिनों में की गई.

    ये भी पढ़े : Aligarh: महिला टीचर ने बनाया अश्लील वीडियो, खुलासा हुआ तो फरार, कई बच्चियों की बिगड़ी तबीयत 

    अब वैक्सीन की कोई कमी नहीं
    भारत में एक समय ऐसा भी था जब राज्‍यों के मांगें जाने के बावजूद टीकों की भारी कमी के कारण यह पूरा नहीं किया जा सका था. लेकिन अब परिस्थितियां बदल गई हैं. जून के लिए अपेक्षित आपूर्ति 11.95 करोड़ कोविड वैक्‍सीन खुराकें थीं. वहीं इस महीने में 11.96 करोड़ टीकाकरण हुए. जुलाई में कुछ 13.50 करोड़ वैक्‍सीन प्रतिदिन की डिलीवरी की जानी थी. वहीं जबकि इस महीने 31 दिनों में 13.45 करोड़ डोज लगाए गए. अगस्‍त में 15 करोड़ खुराक लगाने जाने का लक्ष्‍य था, वहीं इस महीने 13.38 करोड़ मासिक टीकाकरण के अंतिम आंकड़े के साथ 22.5 फीसद अधिक खुराक दी गई.

    हर दिन एक करोड़ टीकाकरण करने की उम्‍मीद 
    सितंबर में भारत को कोविड वैक्‍सीन की 18 और 22 करोड़ खुराक लगाई जाने की उम्‍मीद थी. सितंबर में अगस्‍त की अपेक्षा बेहतर प्रदर्शन किया गया और 31 प्रतिशत अधिक के साथ 23.60 करोड़ डोज लगाए गए. अब भारत प्रतिदिन एक करोड़ टीके लगाने के लक्ष्‍य के साथ आगे बढ़ रहा है. अक्‍टूबर में 27-28 करोड़ डोज लगाए जाने की उम्‍मीद है. यदि हम पिछले महीनों की निर्धारित प्रवृत्ति के अनुसार चलते हैं तो भारत एक महीने में 30 करोड़ से अधिक कोविड टीकाकरण के रिकॉर्ड आंकड़े को छू सकता है.

    Tags: Covid-19 vaccine, India covid vaccination drive

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर