2 अरब डॉलर की धोखाधड़ी के मामले में बढ़ सकती है नीरव मोदी की हिरासत अवधि  

नीरव मोदी करीब दो अरब डॉलर की बैंक धोखाधड़ी के मामले में भारत में वांछित है. उसे मार्च में यहां गिरफ्तार किया गया था और वह तब से स्थानीय वैंड्सवर्थ कारावास में है.

News18Hindi
Updated: August 22, 2019, 1:03 PM IST
2 अरब डॉलर की धोखाधड़ी के मामले में बढ़ सकती है नीरव मोदी की हिरासत अवधि  
नीरव मोदी करीब दो अरब डॉलर की बैंक धोखाधड़ी के आरोपी
News18Hindi
Updated: August 22, 2019, 1:03 PM IST
भगोड़े हीरा कारोबारी (Diamond trader) नीरव मोदी (Nirav Modi) की हिरासत अवधि 28 दिन बढ़ाने के लिये उसे गुरूवार को वीडियो लिंक के जरिये एक स्थानीय अदालत (Local court) में पेश किया जाएगा. नीरव मोदी करीब दो अरब डॉलर की बैंक धोखाधड़ी के मामले में भारत में वांछित है. उसे मार्च में यहां गिरफ्तार किया गया था और वह तब से स्थानीय वैंड्सवर्थ कारावास में है.

ब्रिटेन के कानून के आधार पर उसे हर चार सप्ताह के बाद हिरासत की अवधि को बढ़ाने के लिये अदालत में पेश किया जाता है. इस सुनवाई में नीरव मोदी को प्रत्यर्पित करने की भारत सरकार की याचिका के बारे में भी फैसला दिया जा सकता है. इससे पहले पिछली पेशी में मुख्य न्यायाधीश एम्मा अर्बथनॉट ने संकेत दिया था कि दोनों पक्ष प्रत्यर्पण के लिये प्रस्तावित पांच दिन की सुनवाई पर जल्दी ही सहमत हो सकते हैं. यह सुनवाई भी वीडियो लिंक के जरिये ही हुई थी.

इसे भी पढ़ें : 'अहम मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए गिरफ्तार किए गए चिदंबरम'

उन्होंने संक्षिप्त सुनवाई के दौरान इस मामले से संबंधित सारे दस्तावेज आठ अप्रैल तक अदालत को सौंप दिये जाने का अनुमान व्यक्त किया था। पांच दिन की प्रस्तावित प्रत्यर्पण सुनवाई अगले साल मई में होने का अनुमान है. अदालत इससे पहले कई बार नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज कर चुकी है. पिछले महीने ब्रिटेन के उच्च न्यायालय ने भी नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। यह उसकी चौथी जमानत याचिका थी.

इसे भी पढ़ें : क्यों खारिज हुई चिदंबरम की अर्जी?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 1:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...