• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • विनय ने की तिहाड़ में खुदकुशी की कोशिश, निर्भया की मां बोलीं-कर्मों की सजा

विनय ने की तिहाड़ में खुदकुशी की कोशिश, निर्भया की मां बोलीं-कर्मों की सजा

निर्भया गैंग रेप के दोषी विनय शर्मा ने देर रात तिहाड़ जेल में आत्महत्या की कोशिश की। बताया जा रहा है कि विनय ने पहले कुछ दवाइंया खाईं और फिर गमछा गले में बांधकर फांसी लगाने की कोशिश की...

निर्भया गैंग रेप के दोषी विनय शर्मा ने देर रात तिहाड़ जेल में आत्महत्या की कोशिश की। बताया जा रहा है कि विनय ने पहले कुछ दवाइंया खाईं और फिर गमछा गले में बांधकर फांसी लगाने की कोशिश की...

  • Share this:
    नई दिल्ली। निर्भया गैंग रेप के दोषी विनय शर्मा ने देर रात तिहाड़ जेल में आत्महत्या की कोशिश की। बताया जा रहा है कि विनय ने पहले कुछ दवाइंया खाईं और फिर गमछा गले में बांधकर फांसी लगाने की कोशिश की। विनय को तिहाड़ की 8 नंबर जेल में रखा गया था। विनय को दीनदयाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है।

    दिल्ली में 16 दिसंबर, 2013 को हुए सामूहिक बलात्कार मामले के चार आरोपियों में से एक विनय शर्मा ने तिहाड़ जेल में आत्महत्या का प्रयास किया है। मामले के चार आरोपियों को मौत की सजा मिली है। जेल अधिकारियों ने बताया कि शर्मा कल रात करीब साढ़े नौ बजे जेल की कोठरी में फांसी लगाने की कोशिश कर रहा था तभी तमिलनाडु के विशेष पुलिस जवान ने उसे रोक दिया।

    बाद में उसे दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी हालत स्थिर बतायी जा रही है। जेल के सूत्रों ने बताया कि आत्महत्या का प्रयास करने से पहले उसने भारी मात्रा में अवसाद मिटाने वाली गोलियां खायी थीं। शर्मा अवसादग्रस्त था इसलिए उसे दवाईयां दी जा रही थीं।

    16 दिसंबर 2012 को दक्षिण दिल्ली में छह लोगों ने चलती बस में एक 23 वर्षीय मेडिकल छात्रा निर्भया के साथ बर्बरता से सामूहिक बलात्कार किया था। बाद में सिंगापुर के एक अस्पताल में युवती की मौत हो गयी थी। सामूहिक बलात्कार के चार दोषियों-अक्षय ठाकुर, विनय शर्मा, मुकेश सिंह और पवन गुप्ता को मौत की सजा मिली थी।

    इस मामले का मुख्य आरोपी राम सिंह मार्च 2013 को तिहाड़ जेल के अपने कमरे में मरा हुआ पाया गया था, जिसके बाद उसके खिलाफ कार्रवाई रोक दी गयी थी। इस मामले के नाबालिग दोषी को तीन साल के लिए सुधार गृह में रहने की सजा दी गयी थी। पिछले साल दिसंबर में उसे सुधार गृह से रिहा कर दिया गया था।

    इस बीच, निर्भया की मां ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि दोषियों को उनके कर्मों की सजा मिल रही है। भगवान उन्हें उनके कर्मों की सजा दे रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे देश का कानून इतना ढीला है चाहे जितनी बर्बरता हो जाए,  अपनी जगह से टस मस नहीं होता। सच्चाई छिपती नहीं है। हमारी बच्ची को उन लोगों ने मारा है। उनका कर्म ही उनको जीने नही देगा। एक अदालत भगवान की होती है, कानून सजा दे ना दे। उसका जो पाप है उसको अंदर से ही मरने पर मजबूर हो जायेगा।

    वहीं विनय के पिता ने कहा कि वहां एक चीज़ नहीं जाती तो फांसी कैसे लगा सकते हैं? मेरा लड़का फांसी नहीं लगा सकता, जब इतनी सुरक्षा है तो वहां दवाई आई कहां से? या छोड़ दें या खुद फांसी पर लटका दें, रोज़ रोज़ का ड्रामा लगा रखा है। मेरा बेटा है मुझे तो दर्द होगा ही।

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज