• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Nirbhaya Case: निर्भया गैंगरेप के दोषियों के लिए तीसरी बार जारी हुआ डेथ वॉरंट, लेकिन अब भी फंस सकता है पेंच

Nirbhaya Case: निर्भया गैंगरेप के दोषियों के लिए तीसरी बार जारी हुआ डेथ वॉरंट, लेकिन अब भी फंस सकता है पेंच

निर्भया केस में अगले आदेश तक फांसी चल गई है.

निर्भया केस में अगले आदेश तक फांसी चल गई है.

निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gang Rape Case) के दोषियों पवन गुप्ता, विनय शर्मा, मुकेश सिंह, अक्षय कुमार सिंह के लिए तीसरी बार डेथ वॉरंट जारी किया गया है. हालांकि, 3 मार्च को भी दोषियों को फांसी होगी ऐसा यकीन से नहीं कहा जा सकता. जानिए कौन सी हैं वो वजहें जिससे लटक सकती है दोषियों की फांसी...

  • Share this:
    नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में साल 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gang Rape Case) में चारों दोषियों के खिलाफ पटियाला हाउस कोर्ट ने नया डेथ वॉरंट जारी कर दिया है. नए डेथ वॉरंट के मुताबिक, अब चारों दोषियों पवन गुप्ता, विनय शर्मा, मुकेश सिंह, अक्षय कुमार सिंह को एक साथ 3 मार्च की सुबह 6 बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी. यह तीसरी बार है जब निर्भया के दोषियों का डेथ वॉरंट जारी किया गया है. इसके पहले दोषियों के लिए 22 जनवरी और 1 फरवरी को डेथ वॉरंट जारी हो चुका है. हालांकि, 3 मार्च को भी दोषियों को फांसी होगी? ऐसा यकीन से नहीं कहा जा सकता, क्योंकि दोषियों के वकील का दावा है कि अभी उनके पास कई कानूनी विकल्प बचे हैं.

    दोषियों के पास अब क्या हैं ऑप्शन?
    >>दोषी मुकेश, विनय और अक्षय के पास फांसी से बचने के लिए अब कोई कानूनी विकल्प नहीं बचा है. तीनों रिव्यू पिटीशन, क्यूरेटिव पिटीशन, राष्ट्रपति के पास दया याचिका, दया याचिका खारिज होने के खिलाफ याचिका दायर करने के कानूनी विकल्प का इस्तेमाल कर चुके हैं.

    >>मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोषी अक्षय के वकील अब नए सिरे से दया याचिका दायर करना चाहते हैं. इसके लिए यह आधार बनाया जा रहा है कि उसके मां-बाप ने आधी-अधूरी दया याचिका लगाई थी, जिसे राष्ट्रपति ने खारिज कर दी. अब अगर कोर्ट इजाजत देता है, तो मुकेश के वकील कुछ अन्य दस्तावेज लगाकर फिर से दया याचिका लगाएंगे.

    >>चारों दोषियों में एकमात्र पवन गुप्ता के पास अभी तीन कानूनी विकल्प बचे हुए हैं. उसकी रिव्यू पिटीशन खारिज हो चुकी है. क्यूरेटिव पिटीशन का ऑप्शन बचा हुआ है. पवन गुप्ता के पास दया याचिका भेजने का कानूनी विक्लप भी बाकी है. अगर ये दया याचिका खारिज हो जाती है, तो वह सुप्रीम कोर्ट में दया याचिका के खिलाफ याचिका भी दायर कर सकता है.

    nirbhaya case 1
    निर्भया के पिता और मां


    >>हालांकि, दिल्ली हाईकोर्ट ने निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों को अपने बाकी बचे सभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करने के लिए एक हफ्ते की मोहलत दी थी. ये मोहलत 11 फरवरी को खत्म हो गई है. ऐसे में पवन गुप्ता ने पटियाला हाउस कोर्ट में दलील दी कि उसके पास वकील नहीं है, लिहाजा वह क्यूरेटिव पिटिशन दाखिल नहीं कर पाया. निचली अदालत ने पिछले हफ्ते ही उसके लिए एक वकील भी अपॉइंट किया था.

    >>इसके अलावा खबर है कि दोषी विनय शर्मा भूख हड़ताल पर है. वहीं कोर्ट ने तिहाड़ जेल अधीक्षक को नियमानुसार दोषियों की देखभाल करने का आदेश दिया है.

    >>दूसरी तरफ विनय शर्मा, मुकेश सिंह, अक्षय सिंह के वकील एपी सिंह इन्हें फांसी से बचाने के लिए एक से एक कानूनी दांवपेंच अपना रहे हैं. उन्होंने दावा किया है कि उनके पास अभी कई कानूनी विकल्प बचे हुए हैं. एपी सिंह सिंह का कहना है, 'पवन के नाबालिग होने के मामले में क्यूरेटिव पिटिशन बाकी है, पवन की एसएलपी पर भी क्यूरेटिव पिटिशन डिसाइड होना बाकी है...अगर इसमें राहत नहीं मिलती है तब जाकर मर्सी पिटिशन फाइल करेंगे. अभी कई लीगल ऑप्शन बाकी हैं. हम सभी लीगल ऑप्शन का इस्तेमाल करेंगे.'

    क्या कहता है निर्भया का परिवार?
    निर्भया के पिता और मां ने कहा कि वो कोर्ट के फैसले से ख़ुश हैं. निर्भया की मां ने भी उम्मीद जताते हुए कहा कि मैं 7 साल से संघर्ष कर रही हूं और उम्मीद है कि अब 3 मार्च को निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा मिल जाएगी.

    delhi gangrape
    निर्भया गैंगरेप के चारों दोषी


    क्या है निर्भया केस
    बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 की रात 23 साल की एक पैरामेडिकल स्टूडेंट अपने दोस्त के साथ दक्षिण दिल्ली के मुनिरका इलाके में बस स्टैंड पर खड़ी थी. दोनों फिल्म देखकर घर लौटने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इंतजार कर रहे थे. इस दौरान वो वहां से गुजर रहे एक प्राइवेट बस में सवार हो गए. इस चलती बस में एक नाबालिग समेत छह लोगों ने युवती के साथ बर्बर तरीके से मारपीट और गैंगरेप किया था. इसके बाद उन्होंने पीड़िता को चलती बस से फेंक दिया था.

    बुरी तरह जख्मी युवती को बेहतर इलाज के लिए एयर लिफ्ट कर सिंगापुर ले जाया गया था. यहां 29 दिसंबर, 2012 को अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी. घटना के बाद पीड़िता को काल्पनिक नाम ‘निर्भया’ दिया गया था.

    ये भी पढ़ें: निर्भया केस: 3 मार्च को होगी चारों दोषियों को फांसी, नया डेथ वारंट जारी

    निर्भया गैंगरेप मामला: नया डेथ वारंट जारी करने की मांग, तिहाड़ जेल के वकील बोले- किसी की याचिका लंबित नहीं

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज