फांसी टलवाने के लिए हर हथकंडा आजमा रहे निर्भया के दोषी, अब तिहाड़ जेल प्रशासन से मांगे दस्तावेज़

फांसी टलवाने के लिए हर हथकंडा आजमा रहे निर्भया के दोषी, अब तिहाड़ जेल प्रशासन से मांगे दस्तावेज़
निर्भया केस : सालिसीटर जनरल ने कोर्ट से कहा, सिस्टम से लोगों का विश्वास कम हो रहा है

निर्भया गैंगरेप (Nirabhaya Gang Rape Case) में चारों मुजरिमों को अदालत के आदेश के अनुसार एक फरवरी को सुबह छह बजे फांसी पर चढ़ाया जाना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2020, 9:32 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप मामले (Nirabhaya Gang Rape Case) के चार में तीन दोषियों विनय, पवन और अक्षय ठाकुर के वकील एपी सिंह (AP Singh) ने शुक्रवार को फिर से दिल्ली की एक अदालत का रुख किया है. सिंह ने याचिका दायर कर कहा है कि तिहाड़ जेल प्रशासन (Tihar Jail) ने अब तक उन्हें संबंधित कागजात उपलब्ध नहीं कराए हैं. एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि निर्भया के दोषी फांसी से बचने के लिए सभी तरह के हथकंडे अपनाने में लगे हैं.

समाचार एजेंसी IANS के अनुसार, दोषियों के वकील ने अदालत में कहा कि जेल प्रशासन को कागजात प्रदान कराने संबंधी निर्देश जारी किए जाएं, जिससे वह फांसी की सजा पाए दोषियों को शेष कानूनी उपचार (क्यूरिटिव पिटिशन और मर्सी पिटिशन) उपलब्ध करा सके.

अदालत से कहा- तत्काल दें आदेश
सिंह ने पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) के समक्ष दायर की गई अपनी याचिका में विनय शर्मा की दया याचिका दायर करने और विनय शर्मा, पवन कुमार गुप्ता व अक्षय कुमार सिंह के लिए दस्तावेजों के अनुरोध के संबंध में अदालत के तत्काल आदेशों की मांग की.
रिपोर्ट के अनुसार दोषियों के आवेदन में कहा गया, 'कई अनुरोधों के बावजूद विनय शर्मा को दोषी ठहराने से संबंधित दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए गए हैं. अब दोषियों पवन गुप्ता और अक्षय ठाकुर के लिए इसी तरह के दस्तावेज संबंधित जेलों के अधीक्षकों से उपलब्ध कराने के निर्देश दिए जाने चाहिए.'



1 ने लगा ली थी फांसी, 1 निकला नाबालिग, 4 होनी है फांसी
बता दें अदालत ने हाल ही में दोषियों के खिलाफ मौत का वारंट जारी किया था और उन्हें एक फरवरी को फांसी दिए जाने की तारीख तय की थी. बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 को दिल्ली के वसंत विहार में चलती बस में 23 वर्षीय निर्भया के साथ बेरहमी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था, जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी.

इस रेपकांड में छह लोग शामिल थे, जिसमें राम सिंह ने जेल में फांसी लगा ली थी, जबकि एक नाबालिग सजा पूरी कर चुका है. वहीं चार अन्य दोषियों को निचली अदालत, दिल्ली हाई कोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट भी फांसी की सजा सुना चुका है.

यह भी पढ़ें: निर्भया कांड : कानून व्यवस्था का मजाक बना रहे हैं मुजरिमों के वकील-मनीष सिसोदिया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज