India Budget 2021: निर्मला सीतारमण का संबोधन हीं सुना तो यहां पढ़ें पूरा भाषण

India Budget 2021: यहां पढ़ें वित्त मंत्री का पूरा भाषण

India Budget 2021: अगर आप वित्त मंत्री सीतारमण का पूरा भाषण नहीं सुन पाये हैं तो उसे यहां पढ़ सकते हैं. यहां पढ़ें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का पूरा भाषण

  • Share this:
    नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी से संबंधित राहत कदमों के कारण मौजूदा वित्त वर्ष में खर्च 34.50 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया, जबकि पिछले साल बजट में 30.42 लाख करोड़ रुपये के खर्च का प्रावधान किया गया था. वित्त वर्ष 2021-22 के लिए बजट पेश करते हुए उन्होंने अगले वित्त वर्ष में कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण के लिए 35,000 करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया है.

    India Budget 2021 पेश करते हुए उन्होंने लोकसभा में कहा, 'मैंने कोविड-19 के टीके के लिए 35,000 करोड़ रुपये मुहैया कराए हैं. अगर जरूरत हुई तो आगे भी धन उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध हूं. 2021-22 में स्वास्थ्य का बजट 2.23 लाख करोड़ रुपये है और इसमें 137 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है.' भारत में गत 16 जनवरी को कोविड-19 के खिलाफ विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई थी.

    अगर आपने वित्त मंत्री सीतारमण का पूरा भाषण नहीं सुन पाये हैं तो उसे यहां पढ़ सकते हैं. यहां पढ़ें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का पूरा भाषण



    राज्यों को सिफारिशों के अनुरूप करों में 41 प्रतिशत का हिस्सा 
    इसके साथही वित्त मंत्री ने कहा कि राज्यों को 15वें वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुरूप करों में 41 प्रतिशत का हिस्सा मिलेगा. सरकार ने इन सिफारिशों को स्वीकार कर लिया है. उन्होंने कहा कि अपना ज्यादातर कारोबार डिजिटल तरीके से करने वाली कंपनियों के लिए कर ऑडिट से छूट की सीमा को दोगुना कर दिया गया है. अब 10 करोड़ रुपये तक के कारोबार वाली कंपनियों को इससे छूट मिलेगी.

    वित्त मंत्री ने कहा कि लाभांश के भुगतान के बाद ही लाभांश आय पर अग्रिम कर देनदारी बनेगी. उन्होंने कहा कि सरकार का बुनियादी ढांचा क्षेत्र में अधिक विदेशी निवेश हासिल करने के लिए नियमों को उदार करने का प्रस्ताव है. (भाषा इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.