अपना शहर चुनें

States

ममता बनर्जी के सांसद बोले विक्रम लैंडर क्रैश होने से देश की हुई बदनामी, वित्त मंत्री ने दिया करारा जवाब

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने  सौगत राय को दिया जवाब
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने  सौगत राय को दिया जवाब

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने चंद्रयान-2 के विषय पर तृणमूल कांग्रेस सांसद सौगत राय की टिप्पणी को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि इसरो का यह एक ऐसा प्रयास था जिस पर दुनिया और हम सभी को गर्व है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2019, 11:23 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भले ही चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) का विक्रम लैंडर (Vikram Lander) क्रैश हो गया हो लेकिन फिर भी दुनिया भर में इस मिशन की तारीफ हो रही है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) से लेकर नासा के वैज्ञानिक इस मिशन को काफी हद तक सफल मान रहे हैं. लेकिन ममता बनर्जी की पार्टी और टीएमसी के सांसद सौगत राय (Saugata Roy) का कहना है कि इसरो का ये मिशन कामयाब नहीं रहा और देश की इससे बदनामी हो रही है. इतना ही नहीं उन्होंने इसरो को और फंड दिए जाने पर भी आपत्ति जताई.

देश की हुई बदनामी
बुधवार को सौगत राय ने कहा, 'चंद्रयान-2 मिशन ‘विफल’ रहा और चंद्रमा पर विक्रम लैंडर की क्रैश लैंडिंग हुई और इससे देश का नाम खराब हुआ.' राय ने कहा कि इसके लिए जिम्मेदार लोगों की सरकार को खिंचाई करनी चाहिए.

वित्त मंत्री का करारा जवाब
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने चंद्रयान-2 के विषय पर तृणमूल कांग्रेस सांसद सौगत राय की टिप्पणी को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि इसरो का यह एक ऐसा प्रयास था जिस पर दुनिया और हम सभी को गर्व है .चर्चा का जवाब देते हुए सीतारमण ने कहा कि अत्याधुनिक विज्ञान के क्षेत्र में किस प्रकार से प्रयोग होते हैं, यह समझने की जरूरत है.



भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की प्रशंसा करते हुए वित्त मंत्री ने कहा, ‘अगर चंद्रयान-2 की हार्ड लैंडिंग हुई तो इसे विफल कैसे कहा जा सकता है. इसरो का यह ऐसा प्रयास है, जिस पर हम सभी को गर्व है, पूरी दुनिया को गर्व है.’

टीएमसी नेता को उनके बयान पर घेरा
राय की इस टिप्पणी पर सत्ता पक्ष के सदस्यों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की और भाजपा के एक सदस्य को कहते सुना गया कि तृणमूल सांसद को चंद्रयान-2 पर अपने बयान को वापस लेना चाहिए. इस पर राय ने कहा कि वह बयान वापस नहीं लेंगे. पीठासीन सभापति मीनाक्षी लेखी ने कहा कि भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का अच्छा इतिहास रहा है और सदस्य को इस बारे में पता होना चाहिए.

सॉफ्ट लैंडिंग की कोशिश
गौरतलब है कि नासा ने बुधवार को ही इस बात की पुष्टि की थी कि सात सितंबर के तड़के चंद्रयान-2 मिशन ने चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव पर हार्ड लैंडिंग की थी. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने चंद्रमा पर विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग कराने का प्रयास किया था. हालांकि तय समय से कुछ क्षण पहले इसरो का विक्रम से संपर्क टूट गया था.

ये भी पढ़ें:


महंगाई पर वित्तमंत्री बोलीं- मैं ज्यादा प्याज-लहसुन नहीं खाती, चिंता न करें
पर्ल हार्बर सैन्य ठिकाने पर फायरिंग, एयर चीफ मार्शल भदौरिया भी वहां थे मौजूद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज