Nisarga Cyclone Live Updates: तेजी से बढ़ रहा है निसर्ग, महाराष्ट्र-गुजरात में रेड अलर्ट, NDRF की टीमें तैनात

Nisarga Cyclone Live Updates: तेजी से बढ़ रहा है निसर्ग, महाराष्ट्र-गुजरात में रेड अलर्ट, NDRF की टीमें तैनात
बीते दिनों अम्फान तूफान ने बंगाल और ओडिशा में भारी तबाही मचाई थी (PTI)

Nisarga Cyclone Live Updates: भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने अपने बुलेटिन में कहा कि 'दक्षिण पूर्व-पूर्व मध्य अरब सागर के ऊपर अगले 48 घंटों के दौरान एक निम्न दवाब का क्षेत्र बनेगा. यह उसके अगले 48 घंटों के दौरान और तीव्र होकर डिप्रेशन में बदलेगा और उसके बाद और तीव्र हो सकता है.

  • Share this:
मुंबई/अहमदाबाद. कोरोना महामारी (Covid-19 Pandemic) का कहर झेल रहे महाराष्ट्र (Maharashtra) और गुजरात (Gujarat) पर अब हिका चक्रवाती तूफान का कहर मंडरा रहा है. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, इन दोनों राज्यों में अगले कुछ घंटों में तूफान निसर्ग(Nisarga Cyclone 2020) दस्तक दे सकती है. आसमान में बादल छाए हुए हैं और समुद्री लहरें तेज हो गई हैं. ऐसे में गुजरात और महाराष्ट्र के तटीय इलाकों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है.

मौसम विभाग की मानें तो जिस समय यह चक्रवात जमीन से टकराएगा, उस समय हवा की गति 120 किलोमीटर रहेगी, जिससे भारी नुकसान होने की आशंका है. इसे देखते हुए गुजरात और महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में NDRF की टीमें तैनात की गई हैं. महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की तीन टीमें मुंबई में, दो पालघर में और ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी तथा सिंधदुर्ग में एक-एक टीम को तैनात किया गया है.

पढ़ें Live Updates:-
>>मौसम विभाग ने ये अभी तक साफ नहीं किया है कि चक्रवात कहां टकराएगा. स्काईमेट ने कहा है कि चक्रवात उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के बॉर्डर के पास टकराएगा.



>>मौसम विभाग के साइक्लोन ई एटलस के मुताबिक, 1891 के बाद पहली बार अरब सागर में महाराष्ट्र के तटीय इलाके के आसपास समुद्री तूफान की स्थिति बन रही है. मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक, ये काफी असामान्य बात है कि जून माह में महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से कोई चक्रवात तूफान टकरायेगा.



>>आधिकारिक तौर पर इस तूफान का नामकरण निसर्ग किया गया है.अरब सागर में बना निम्न दबाव का क्षेत्र तूफान में बदलने के बाद इसे निसर्ग नाम दिया गया. इसके पहले सोशल मीडिया पर ये तूफान ‘हिका’ नाम से शेयर किया जा रहा था.

>>मौसम विभाग ने बताया है कि यह तूफान गुजरात के द्वारका ओखा और मोरबी से टकराता हुआ, कच्छ की ओर जा सकता है. संभावना जताई जा रही है कि अन्य तूफानों के तरह यह भी कच्छ के कंडला और आसपास के इलाकों में भारी नुकसान पहुंचा सकता है.

>>इसके पहले IMD ने अपने बुलेटिन में कहा कि 'दक्षिण पूर्व-पूर्व मध्य अरब सागर के ऊपर अगले 48 घंटों के दौरान एक निम्न दवाब का क्षेत्र बनेगा. यह उसके अगले 48 घंटों के दौरान और तीव्र होकर डिप्रेशन में बदलेगा और उसके बाद और तीव्र हो सकता है.


>>अरब सागर के द्वीप डिप्रेशन के चलते गुजरात के समुद्री किनारों पर एक नंबर का सिग्नल जारी कर दिया गया है. साथ ही मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है. बताया जा रहा है कि पहले यह चक्रवात ओमान की तरफ बढ़ रहा था. लेकिन अब मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि यह तूफान गुजरात की ओर आगे बढ़ रहा है.

ये भी पढ़ें:-  जानें अम्फान तूफान से सुंदरबन में कितनी मची तबाही, पलायन को क्‍यों मजबूर हैं लोग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading