लाइव टीवी

इस देश में छिपा हो सकता है भगौड़ा नित्यानंद, मिल चुका है पासपोर्ट

News18Hindi
Updated: January 22, 2020, 9:34 PM IST
इस देश में छिपा हो सकता है भगौड़ा नित्यानंद, मिल चुका है पासपोर्ट
नित्‍यानंद को इक्‍वाडोर ने शरण देने से मना कर दिया था. फाइल फोटो

नित्‍यानंद (Nithyananda) के खिलाफ इंटरपोल ने इसी महीने ब्‍लू कॉर्नर नोटिस जारी किया है. उसके खिलाफ रेप और अपहरण के कई मामले दर्ज हैं. नित्‍यानंद के देश से नाटकीय ढंग से भाग जाने के बाद उसके इक्‍वाडोर (Ecuador) में होने की बात सामने आई थी, लेकिन अब उसके दूसरे कैरेबियाई देश में होने की बात कही जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2020, 9:34 PM IST
  • Share this:
डीपी सतीश
बेंगलुरु. भगौड़े नित्‍यानंद (Nithyananda) के खिलाफ इंटरपोल ने ब्‍लू कॉर्नर नोटिस (Blue Corner notice) जारी कर दिया है. लेकिन खबर है कि वह कैरेबियाई देश बेलीज में छिपा हो सकता है. उसे यहां का पासपोर्ट (Belize Passport) भी मिल गया है. गुजरात पुलिस (Gujarat Police) ने इससे पहले जानकारी दी थी कि नित्‍यानंद के खिलाफ इंटरपोल ने इसी महीने ब्‍लू कॉर्नर नोटिस जारी किया है. उसके खिलाफ रेप और अपहरण के कई मामले दर्ज हैं. नित्‍यानंद के देश से नाटकीय ढंग से भाग जाने के बाद उसके इक्‍वाडोर (Ecuador) में होने की बात सामने आई थी, लेकिन अब उसके इस कैरेबियाई देश में होने की बात कही जा रही है.

सूत्रों के अनुसार, उसे बेलीज का पासपोर्ट कुछ महीने पहले ही मिला है. लेकिन वह इस पासपोर्ट से हर जगह नहीं घूम सकता. पुलिस को अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि उसने एक से अधिक देशों का पासपोर्ट प्राप्त किया है या नहीं. पुलिस के अनुसार, हमें अभी इस बात के कोई सबूत नहीं मिले हैं कि वह बेलीज में छिपा है. क्‍योंकि वह अपने नए पासपोर्ट से कहीं आ जा नहीं सकता. अगर वर्तमान की परिस्‍थितियों पर गौर करें तो वह इसी क्षेत्र में कहीं छिपा हो सकता है. उसके खिलाफ ब्‍लू कॉर्नर नोटिस जारी किया जा चुका है, ऐसे में अगर वह कहीं भी मूवमेंट करेगा तो उसके बारे में खबर मिल जाएगी.

नित्‍यानंद एक साल पहले देश से भाग गया था. सितंबर 2018 में जब उसका पासपोर्ट एक्‍सपायर हो गया था, उस समय कर्नाटक पुलिस ने उसे रिन्‍यु करने से मना कर दिया था. दो महीने पहले नित्‍यानंद की ओर से दावा किया गया था कि उसने इक्‍वाडोर के पास एक द्वीप पर अपना देश कैलासा बसा लिया है. वहां पर उसकी मुद्रा चलती है.



हालांकि इस तरह की खबरों को इक्‍वाडोर की सरकार ने नकार दिया था. सरकार की ओर से दावा किया गया था कि उसने नित्‍यानंद को शरण देने से इनकार कर दिया. इक्‍वाडोर ने दावा किया था कि संभव है कि इसके बाद नित्‍यानंद पड़ोसी देश हैती चला गया.

यह भी पढ़ें...
LIC को नुकसान पहुंचा करोड़ों का भविष्य जोखिम में डाल रही है मोदी सरकार: राहुल

दिन में सस्ती और शाम को महंगी होगी बिजली, जानिए नए प्लान के बारे में सब कुछ...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 8:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर