गडकरी की नेताओं को सलाह- डूब रहे जहाज से कूदते चूहे जैसा ना करें बर्ताव

गडकरी की नेताओं को सलाह- डूब रहे जहाज से कूदते चूहे जैसा ना करें बर्ताव
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा, 'लोग उनके पीछे भागते हैं, जो सत्ता में होते हैं. आज हम सत्ता में हैं, वे (पार्टी बदलने वाले) हमारे साथ आएंगे. कल अगर किसी और को सत्ता मिलती है तो वे उनके पीछे भागेंगे. लोग बिल्कुल ऐसे पाला बदलते हैं, जैसे डूबते हुए जहाज से चूहे कूदते हैं.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2019, 11:38 AM IST
  • Share this:
अर्थव्यवस्था (Economy) की खराब सेहत को लेकर मोदी सरकार (Modi Government) को आलोचना झेलनी पड़ रही है. ऐसे में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने रविवार को कहा किसी नेता को एक विचारधारा (Ideology) पर टिके रहना चाहिये. गडकरी ने नेताओं को सलाह दी कि इस मुश्किल घड़ी में नेताओं को डूबते जहाज से कूदते चूहों की तरह पार्टी बदलने से बचना चाहिए.

नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा, 'मुझे लगता है कि नेताओं को स्पष्ट रूप से राजनीति का अर्थ समझना चाहिए. राजनीति महज सत्ता की राजनीति नहीं है. महात्मा गांधी, लोकमान्य तिलक, पं. जवाहर लाल नेहरू और वीर सावरकर जैसे नेता सत्ता की राजनीति में शामिल नहीं थे.'

दिलचस्प है कि महाराष्ट्र में इस साल के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल होने के लिए विपक्ष के नेता उमड़ पड़े हैं. गडकरी ने लोकमत समूह द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में 'पॉलिटिकल आइकन ऑफ विदर्भ' किताब की लॉन्चिंग प्रोग्राम में कही.



सिद्धांत से न करें समझौता



केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री ने कहा कि गांधीजी ने समाजकरण, राष्ट्रकरण और विकासकरण का अनुसरण किया. उन्होंने कहा, 'सिद्धांतों से समझौता मत कीजिये और धैर्य रखिये.' गडकरी ने कहा कि मैंने मुश्किल हालात में भी पार्टी छोड़ने के बार में नहीं सोचा, लेकिन मौजूदा हालात ऐसे हैं कि लोग इस बात को ध्यान में रखकर पार्टियां बदल रहे हैं कि कौन सत्ता में है.

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा, 'लोग उनके पीछे भागते हैं, जो सत्ता में होते हैं. आज हम सत्ता में हैं, वे (पार्टी बदलने वाले) हमारे साथ आएंगे. कल अगर किसी और को सत्ता मिलती है तो वे उनके पीछे भागेंगे. लोग बिल्कुल ऐसे पाला बदलते हैं, जैसे डूबते हुए जहाज से चूहे कूदते हैं.'


विचारधारा पर टिके रहने वाले लिखेंगे इतिहास
नागपुर से लोकसभा सदस्य गडकरी ने कहा, 'लेकिन ये लोग इतिहास नहीं लिखेंगे. इतिहास वही लोग लिखेंगे, जो परेशानियों का सामना करने के बावजूद अपनी विचारधारा पर कायम रहे.'

गडकरी ने नागपुर विश्वविद्यालय के छात्र संघ अध्यक्ष रहे दिग्गज वामपंथी नेता व दिवंगत ए बी वर्धन के बारे में कहा, 'एबी वर्धन के प्रति मेरे मन में बहुत सम्मान है, भले ही हम दोनों अलग-अलग विचारधाराओं से हों. वह वाकई एक समर्पित नेता थे. नागपुर में किसी भी नेता की तुलना में उनका कद बहुत ऊंचा है.'

राजनीति से ऊपर उठकर मंदी की बात स्वीकारें वित्त मंत्री: प्रियंका गांधी

निर्मला सीतारमण बोलीं- बैंकों के विलय से नहीं जाएगी किसी की नौकरी

 

(PTI इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading