• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पत्नी को बिना बताए नितिन गडकरी ने क्यों चलवाया ससुर के घर पर बुलडोजर, जानें कारण

पत्नी को बिना बताए नितिन गडकरी ने क्यों चलवाया ससुर के घर पर बुलडोजर, जानें कारण

जेवर एयरपोर्ट को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे से जोड़ने पर 2100 करोड़ की लागत आएगी.

जेवर एयरपोर्ट को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे से जोड़ने पर 2100 करोड़ की लागत आएगी.

Delhi-Mumbai Expressway: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपनी शादी के बाद का एक किस्सा बताया कि उन्होंने अपनी पत्नी को बिना बताए अपने ससुर के घर पर बुलडोजर चलवा दिया था. गडकरी ने इसके पीछे का कारण भी बताया.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने गुरुवार को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे (डीएमई) के निर्माण कार्य का जायजा लिया. इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने हरियाणा के सोहना में एक कार्यक्रम को संबोधित कर सड़क और एक्सप्रेस वे से जुड़े कामकाज के बारे में बताते हुए एक किस्सा सुनाया. नितिन गडकरी ने बताया कि कैसे उन्होंने अपने ससुर के घर पर बुलडोजर चलवा दिया था.

    नितिन गडकरी ने बताया कि जब उनकी नई-नई शादी हुई थी तब उनके ससुर का घर सड़क के बीच में आ रहा था. वहां के लोगों को ट्रैफिक जाम की समस्या से जूझना पड़ रहा था. ऐसे में वहां सड़क का निर्माण काफी जरूरी हो गया. ऐसे में उन्होंने अपनी पत्नी को बिना बताए ससुर के घर पर बुलडोजर चलवा दिया और सड़क भी बनवा दी. जिससे वहां के लोगों को जाम की समस्या से हमेशा के लिए निजात मिल गई.

    21,000 करोड़ रुपये का आएगा खर्च
    नितिन गडकरी ने कहा कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के निर्माण में 2,100 करोड़ रुपये का खर्च आ रहा है. उन्होंने कहा कि हरियाणा में 6 जगहों पर जन सेवाएं उपलब्ध होंगी. वहीं केंद्रीय मंत्री ने टोल टैक्स के संदर्भ में कहा कि सरकार के पास सिर्फ लोगों के लिए पैसा आता है. उन्होंने कहा कि अगर आपको अच्छी सर्विस चाहिए तो उसके लिए पैसा भी देना होगा. गडकरी ने कहा कि शादी खुले मैदान में हो सकती है लेकिन उसके लिए भी पैसे खर्च करने पड़ते हैं.

    ये भी पढ़ें- देशभर में बुखार का प्रकोप, जानें केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने उठाए हैं क्या कदम?

    गडकरी ने कहा कि हेलीकॉप्टर एंबुलेंस सेवा की भी व्यवस्था की जाएगी. साथ ही हम ड्रोन का भी इस्तेमाल करेंगे जिससे की उद्योग और व्यवसाय को भी बढ़ावा मिलेगा. बता दें इस एक्सप्रेसवे के बन जाने के बाद उम्मीद है कि राष्ट्रीय राजधानी और वित्तीय केंद्र के बीच यात्रा का समय 24 घंटे से कम होकर 12 घंटे रह जाएगा. यह एक्सप्रेसवे आठ लेन का होगा और दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश तथा गुजरात से होकर गुजरेगा.

    2023 तक एक्सप्रेसवे पूरा होने की संभावना
    गडकरी ने यह भी कहा कि दिल्ली-एनसीआर में यातायात जाम और वायु प्रदूषण की समस्या को कम करने के लिए सड़क मंत्रालय 53,000 करोड़ रुपये की 15 परियोजनाओं पर काम कर रहा है. समीक्षा बैठक के दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह भी मौजूद थे.

    ये भी पढ़ें- गुजरात: पटेल सरकार का कैबिनेट विस्तार, 5 कैबिनेट मंत्रियों ने एक साथ ली शपथ

    दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के मार्च 2023 तक पूरा होने की संभावना है और इसे भारतमाला परियोजना के पहले चरण के तहत बनाया जा रहा है.

    हाल में जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार परियोजना की लागत 98,000 करोड़ रुपये है और यह भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे होगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन