कोरोना संकट में भारत को होगा फायदा, गडकरी बोले- चीन की कई कंपनियां यहां आने को तैयार

नितिन गडकरी ने दी प्रतिक्रिया.
नितिन गडकरी ने दी प्रतिक्रिया.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने एक समाचार चैनल से कहा, 'भारत को इन कंपनियों को यहां आने के लिए सुविधाएं उपलब्ध करानी चाहिए.'

  • Share this:
मुंबई. केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने बुधवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी (Covid 19) की वजह से बनी संकटपूर्ण स्थिति में भारत को फायदा पहुंच सकता है. इस स्थिति में कई बहुराष्ट्रीय कंपनियां चीन से भारत में आना चाहतीं हैं.

गडकरी ने मराठी समाचार चैनल से कहा, 'भारत को इन कंपनियों को यहां आने के लिए सुविधाएं उपलब्ध करानी चाहिए.' उन्‍होंने कहा, 'संकट की इस घड़ी में कुछ अच्छी बातें भी हो रहीं हैं. चीन में काम कर रही कई कंपनियां अपनी औद्योगिक इकाई को भारत में लाने के लिये तैयार हैं.' उन्होंने कहा, 'हमें इन कंपनियों को उचित सुविधायें उपलब्ध करानी चाहिए.'

ट्रंप दे चुके हैं धमकी
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ व्यापार समझौता तोड़ने की मंगलवार को धमकी दी क्यों कि उन्हें लगता है कि कोराना वायर महामारी के संकट में चीन उसका पालन नहीं कर रहा है.
उन्होंने कोरोना वायरस पर नयी जानकारियां देने के लिये होने वाले नियमित दैनिक व्हाइट हाउस संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यदि चीन ने समझौते के प्रावधानों का सम्मान नहीं किया तो वह उसके साथ हुए व्यापार समझौते को समाप्त कर देंगे.



जनवरी में हुआ था समझौता
चीन और अमेरिका ने इस साल जनवरी में दो साल से अधिक समय से जारी शुल्क युद्ध को समाप्त करते हुए व्यापार समझौते के पहले चरण पर हस्ताक्षर किये थे. इस समझौते के पहले चरण के तहत चीन को अमेरिका से 200 अरब डॉलर के सामानों की खरीद करने की बाध्यता है. इसके योजना के हिसाब से आगे चलते रहने के अनुमान हैं.

हालांकि अमेरिका-चीन आर्थिक एवं सुरक्षा समीक्षा आयोग ने एक रिपोर्ट में कहा है कि चीन प्राकृतिक आपदा (कोरोना वायरस महामारी) अथवा किसी अन्य आकस्मिक घटना की स्थिति में व्यापार समझौते में एक नया प्रावधान जोड़ सकता है, जिससे दोनों देशों के बीच नये सिरे से बातचीत की जरूरत पड़ सकती है.

यह भी पढ़ें: COVID-19: मुंबई में 3683 लोग संक्रमित, धारावी में 9 नए केस के बाद 189 पॉजिटिव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज