Home /News /nation /

nitish government drafted coaching institute control and regulation rules 2022 brvj

नीतीश सरकार ने बनाई नई नियमावली, अब बिना रजिस्ट्रेशन नहीं चलेंगे कोचिंग संस्थान, जानें प्रावधान

बिहार में कोचिंग संस्थानों पर नकेल कसने के लिए नई नियमावली का प्रारूप तैयार.

बिहार में कोचिंग संस्थानों पर नकेल कसने के लिए नई नियमावली का प्रारूप तैयार.

Coaching Institute Control and Regulation Rules 2022: बीपीएससी परीक्षा में प्रश्नपत्र लीक होने के बाद अब सरकार पूरे बिहार में चल रहे कोचिंग संस्थानों पर नकेल कसने की तैयारी में है. सभी कोचिंग संस्थानों को सरकार से निबंधन कराना जरूरी होगा. सरकार के द्वारा तय मानक के अनुसार सुविधाएं भी देनी पड़ेगी. बीपीएससी परीक्षा में प्रश्नपत्र लीक होने के बाद अब सरकार पूरे बिहार में चल रहे कोचिंग संस्थानों पर नकेल कसने की तैयारी में है. सभी कोचिंग संस्थानों को सरकार से निबंधन कराना जरूरी होगा. सरकार के द्वारा तय मानक के अनुसार सुविधाएं भी देनी पड़ेंगी.

अधिक पढ़ें ...

पटना. राजधानी पटना समेत पूरे बिहार में सैकड़ों कोचिंग संस्थान हैं जिनमें ज्यादातर बिना रजिस्ट्रेशन के ही नियमों को ताक पर रखकर चल रहे हैं. बिहार सरकार ने कोचिंग संस्थान नियंत्रण एवं विनियमन अधिनियम वर्ष 2010 में लागू किया था, लेकिन 12 वर्षों के बीत जाने के बाद भी अभी तक इसके लिए अधिनियम नहीं बनाया जा सका था. बीपीएससी की परीक्षा में प्रश्न पत्र लीक होने के बाद सरकार ने अब अधिनियम बनाने की कवायद तेज कर दी है. बिहार सरकार के शिक्षा विभाग के द्वारा कोचिंग संस्थान नियंत्रण एवं विनियमन नियमावली 2022 का प्रारूप बना लिया गया है और तत्काल इसे शिक्षा विभाग के वेबसाइट पर भी जारी कर दिया गया है. इस नई नियमावली को लेकर 31 मई तक लोगों से सुझाव मांगे गए हैं.

माना जा रहा है कि नियमावली लागू होने के 1 महीने के अंदर सभी कोचिंग संस्थानों को रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करना होगा. सरकार के द्वारा 5000 का निबंधन शुल्क और रिन्यूअल करने के लिए 3000 तय किया गया है. साथ ही कोचिंग संस्थान को पढ़ाने वाले शिक्षक की योग्यता से लेकर फीस और अन्य बुनियादी सुविधाओं की भी पूरी जानकारी देनी होगी. नई नियमावली के अनुसार निजी कोचिंग संस्थान में भी पढ़ाने वाले शिक्षक कम से कम ग्रेजुएट होने चाहिए.

सरकार के द्वारा बनाए जा रहे हैं कोचिंग संस्थानों के लिए नई नियमावली को लेकर कई निजी कोचिंग संस्थान के संचालकों की अलग-अलग राय है. पटना के शिखर कैरियर इंस्टिट्यूट के निदेशक आशुतोष झा का कहना है कि देर से ही सही, लेकिन सरकार ने सही निर्णय लिया है. सभी कोचिंग के संचालन के लिए नियमावली होनी चाहिए. एसओपी का पालन होना चाहिए.

पटना के लॉ प्रेप ट्यूटोरियल निदेशक अभिषेक गुंजन का कहना है कि नई नियमावली लाने से पहले सरकार को कोचिंग संचालकों से भी बात करनी चाहिए और कोरोना के कारण उन्हें को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है; उसे भी देखना होगा. साथ ही यह भी सुनिश्चित करना होगा की नई नियमावली में सरकार की ओर से कोचिंग और कोचिंग संचालकों को क्या-क्या सुविधाएं दी जाती हैं.

Tags: Bihar News, Nitish Government, PATNA NEWS

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर