लाइव टीवी

निज़ामुद्दीन मरकज़: दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR, क्राइम ब्रांच करेगी जांच

News18Hindi
Updated: March 31, 2020, 7:45 PM IST
निज़ामुद्दीन मरकज़: दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR, क्राइम ब्रांच करेगी जांच
देश के 20 राज्‍यों में तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों में कोरोना वायरस टेस्‍ट पॉजिटिव पाया जा चुका है.

मरकज़ (Markaz) में भारतीयों सहित कुछ विदेशी रुके हुए थे. यह लोग तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के एक जलसे में हिस्सा लेने आए हुए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2020, 7:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली के निज़ामुद्दीन मरकज़ (Nizamuddin Markaz) मामले में दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने एफआईआर (FIR) दर्ज कर ली है. एफआईआर मौलाना साद और अन्य के खिलाफ लिखी गई है. अब इस मामले की दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच करेगी. आज सुबह सीएम अरविंद केजरीवाल और सोमवार रात दिल्ली के हैल्थ मिनिस्टर सतेन्द्र जैन ने एलजी को एक खत लिखा था. खत में मरकज़ की इंतज़ामियां के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की सिफारिश की थी. गौरतलब रहे कि मरकज़ में भारतीयों सहित कुछ विदेशी रुके हुए थे. यह लोग तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के एक जलसे में हिस्सा लेने आए हुए थे.

मरकज का आरोप, 17 गाड़ियों के लिए एसडीएम से मांगा था कर्फ्यू पास

मरकज़ के वकील फैज़ुल अय्यूबी का कहना है कि मरकज़ की ओर से एसडीएम को कर्फ्यू पास के लिए लैटर लिखा गया था. 17 गाड़ियों के लिए पास की मांग की गई थी, जिससे की दूर रहने वाले लोगों को उनके घरों तक भेजा जा सके. 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के चलते और उसके बाद लॉकडाउन के चलते कहीं भी निकलना मुश्किल हो गया था ट्रेन तक बंद हो चुकी थीं, तो दूर रहने वालों को भेजना मुश्किल था. 26 मार्च को हमें  एसडीएम दफ्तर बुलाया गया और डीएम से भी बात कराई गई.



 यह है तबलीगी जमात से जुड़े कुछ दावें



तबलीगी जमात से जुड़े उलेमाओं का दावा है कि जमात दुनिया के हर एक मुल्क में फैली हुई है. जमात से दुनियाभर में करीब 15 करोड़ लोग जुड़े हुए हैं. उलेमाओं का दावा है कि जमात कोई सरकारी मदद नहीं लेती है. जमात की अपनी कोई बेवसाइट, अखबार या चैनल नहीं है. भारत में जमात का हैड ऑफिस दिल्ली में हज़रत निजामुउद्दीन दरगाह के पास मरकज के नाम से है. जमात की एक खास बात ये है कि ये अपना एक अमीर (अध्यक्ष) चुनते हैं और उसी के अनुसार सारे कार्यक्रम होते हैं.

तबलीगी जमात का मकसद

तबलीगी जमात से जुड़े उलेमाओं का दावा है कि वह कोई संगठन या अलग वर्ग नहीं है. उनका काम बस इतना है कि शहर-शहर और गांव-गांव घूमकर लोगों को इस्लाम पर सही तरीके से चलने की जानकारी देना है. अच्छाई और बुराई के फर्क को समझाना है. कारोबार या नौकरी कर की गई कमाई का इस्तेमाल कैसे करने है यह जानकारी भी जमात देती है. जमात जिस शहर या गांव में भी जाती है वहां वो हमेशा मस्जिदों में ही रुकती है.

इन धाराओं दर्ज हुई एफआईआर
IPC की धारा 269 यानी किसी के जीवन को संकट में डालना और आईपीसी 270 यानी कोई ऐसा गैर जरूरी काम करना जिससे जीवन में संकट आए. जबकि आईपीसी की धारा 271 यानी सरकार के बनाए नियम की अवहेलना करना है. वहीं धारा 120 बी यानी आपराधिक साजिश के साथ सरकारी नियमों की घोर अवहेलना करना है. इसके अलावा U/s 3 महामारी एक्ट 1897 के तहत केस दर्ज किया गया है.

 

ये भी पढ़ें-
पढ़िए, दुनियाभर के 15 करोड़ लोगों से बनी तबलीगी जमात का क्या है मकसद

निजामुद्दीन मामला: मरकज़ का दावा- 17 वाहनों के लिए मांगा था कर्फ्यू पास, नोटिस का भी दिया था जवाब
First published: March 31, 2020, 7:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading