कॉलेजों में एडमिशन को लेकर ममता सरकार का बड़ा फैसला, अब फ्री में होंगे दाखिले

कॉलेजों में एडमिशन को लेकर ममता सरकार का बड़ा फैसला, अब फ्री में होंगे दाखिले
पश्चिम बंगाल में कॉलेजों में दाखिले के लिए कोई आवेदन शुल्क नहीं लिया जाएगा (फाइल फोटो)

ममता सरकार (Mamta Government) ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा संचालित कॉलेजों (Collage) और विश्वविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए छात्रों से कोई आवेदन शुल्क नहीं लिया जाएगा.

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल सरकार (West Bengal Government) ने गुरुवार को बड़ी घोषणा की कि राज्य सरकार द्वारा संचालित कॉलेजों (Collage) और विश्वविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए छात्रों से कोई आवेदन शुल्क नहीं लिया जाएगा. राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा, 'मैं बहुत जोर देकर यह बात कह रहा हूं कि दाखिले के दौरान कॉलेज किसी भी आवेदक से एक भी रुपया न वसूले.'

पार्थ चटर्जी ने कहा, ' विवरण पुस्तिका के लिए भी कॉलेज छात्रों से पैसे न वसूलें. इसी तरह स्नातक पाठ्यक्रमों वाले विश्वविद्यालय भी आवेदकों से कोई शुल्क न लें.' चटर्जी ने कहा कि कोविड-19 के चलते छात्र पहले ही परेशानियों का सामना कर रहे हैं. ऐसे में उन पर किसी तरह का आर्थिक बोझ न डाला जाए. मंत्री के बयान के बाद उच्च शिक्षा विभाग ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है.

बंगाल सरकार ने अंगदान को किया प्रोत्साहित



वहीं, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि उनकी सरकार ने अंगदान को प्रोत्साहित किया है और प्रतिरोपण की सुविधा के लिए कई बार सफलतापूर्वक ग्रीन कॉरिडोर (निर्बाध मार्ग) बनाए हैं. अंग दान दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि उन्होंने अपनी आंखें दान करने का संकल्प लिया है.
बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘आज अंगदान दिवस है. पश्चिम बंगाल सरकार मृत्यु के बाद अंगों के दान को प्रोत्साहित करती है और बंगाल उन कुछ राज्यों में से एक है जिसने सफलतापूर्वक अंगों को तेजी से अस्पताल पहुंचाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया है. मैंने कई साल पहले अपनी आंखें दान करने का भी वादा किया था.’ अंगदान दिवस हर साल 13 अगस्त को मनाया जाता है ताकि लोगों को अंग दानकर्त्ता बनने और दूसरों की जिंदगी बचाने के लिए प्रेरित किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज