• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • जम्मू-कश्मीर में कोई नजरबंद नहीं, 223 हिरासत में: सरकार

जम्मू-कश्मीर में कोई नजरबंद नहीं, 223 हिरासत में: सरकार

जम्मू-कश्मीर में कुछ व्यक्तियों को ऐहतियात के तौर पर हिरासत में भी लिया गया था (AP)

जम्मू-कश्मीर में कुछ व्यक्तियों को ऐहतियात के तौर पर हिरासत में भी लिया गया था (AP)

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री (Union Minister of State for Home Affairs) जी किशन रेड्डी (G Kishan Reddy) ने कहा, ‘‘11 सितंबर, 2020 तक 223 व्यक्ति हिरासत में हैं. कोई भी व्यक्ति नजरबंद (House arrest) नहीं है.’’ केंद्रीय मंत्री (Central Minister) ने यह भी बताया कि पांच अगस्त 2019 को तत्कालीन जम्मू कश्मीर के विभाजन के बाद यहां आतंकवाद (terrorism) की घटनाओं में काफी कमी आई है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. सरकार (Government) ने मंगलवार को बताया कि जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में कोई भी नजरबंद नहीं है और वर्तमान में 223 लोग हिरासत (arrest) में हैं. केंद्रीय गृह राज्य मंत्री (Union Minister of State for Home Affairs) जी किशन रेड्डी (G Kishan Reddy) ने लोकसभा को बताया कि जम्मू-कश्मीर से पिछले साल अगस्त महीने में अनुच्छेद 370 (Article 370) के अधिकतर प्रावधान हटाए जाने के बाद वहां शांति बनाए रखने के लिए कई कदम उठाए गए. इनमें कुछ व्यक्तियों को ऐहतियात के तौर पर हिरासत में भी लिया गया.

    रेड्डी ने कहा, ‘‘11 सितंबर, 2020 तक 223 व्यक्ति हिरासत में हैं. कोई भी व्यक्ति नजरबंद (House arrest) नहीं है.’’ केंद्रीय मंत्री (Central Minister) ने यह भी बताया कि पांच अगस्त 2019 को तत्कालीन जम्मू कश्मीर के विभाजन के बाद यहां आतंकवाद (terrorism) की घटनाओं में काफी कमी आई है. उन्होंने बताया कि 29 जून 2018 से चार अगस्त 2019 के बीच 402 दिनों में जम्मू और कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आतंकवाद की 455 घटनाएं हुई थी जबकि पांच अगस्त 2019 से नौ सितंबर 2020 के बीच 402 दिनों में ऐसी 211 घटनाएं (incident) हुई.

    जम्मू कश्मीर में पिछले छह महीने में 138 आतंकी मारे गए: सरकार
    वहीं सरकार ने मंगलवार को लोकसभा में यह भी बताया कि इस साल एक मार्च से 31 मार्च तक जम्मू कश्मीर में 138 आतंकवादी मारे गए और इस अवधि में सीमापार से गोलीबारी में 50 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए.

    यह भी पढ़ें: राजनाथ सिंह बोले- इस बार हालात एकदम अलग, हम हर स्थिति से निपटने को तैयार

    केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने लोकसभा में एकेपी चिनराज और एस जगतरक्षकण के प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि जम्मू कश्मीर पिछले तीन दशक से भी अधिक समय से सीमापार से प्रायोजित और समर्थित आतंकवाद से प्रभावित है. उन्होंने कहा कि सरकार ने आतंकवाद के खिलाफ कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति अपनाई है. इसके परिणाम स्वरूप इस साल एक मार्च से 31 अगस्त तक जम्मू कश्मीर में 138 आतंकवादी मारे गए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज