भारत में समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने शुक्रवार को देश के नागरिकों के लिए एक समान नागरिक संहिता (Uniform Civil Code) तैयार किए जाने पर बल दिया.

भाषा
Updated: September 13, 2019, 11:13 PM IST
भारत में समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया: सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को देश के नागरिकों के लिए एक समान नागरिक संहिता तैयार किए जाने पर बल दिया.
भाषा
Updated: September 13, 2019, 11:13 PM IST
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने शुक्रवार को देश के नागरिकों के लिए एक समान नागरिक संहिता (Uniform Civil Code) तैयार किए जाने पर बल दिया. कोर्ट ने अफसोस जताया कि सर्वोच्च अदालत के ‘‘प्रोत्साहन’’ के बाद भी इस मकसद को हासिल करने का कोई प्रयास नहीं किया गया. न्यायालय ने गौर किया कि गोवा (Goa) एक ‘‘बेहतरीन उदाहरण’’ है जहां समान नागरिक संहिता है और धर्म की परवाह किए बिना सब पर लागू है, ‘‘सिवाय कुछ सीमित अधिकारों की रक्षा करते हुए.’’

न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध बोस की पीठ ने एक फैसले में यह टिप्पणी की जिसमें उसने कहा कि देश में कहीं भी रह रहे गोवावासी का संपत्ति से जुड़ा उत्तराधिकार और दाय अधिकार पुर्तगाली नागरिक संहिता, 1867 से नियंत्रित होगा.

संविधान में की गई थी समान नागरिक संहिता लागू करने की उम्मीद
पीठ ने कहा कि यह गौर करना दिलचस्प है कि राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांतों से जुड़े भाग चार में संविधान (Constitution) के अनुच्छेद 44 में निर्माताओं ने उम्मीद की थी कि राज्य पूरे भारत में समान नागरिक संहिता के लिए प्रयास करेगा. लेकिन आज तक इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

पीठ ने 31 पृष्ठ के अपने फैसले में कहा, ‘‘हालांकि हिंदू अधिनियमों को वर्ष 1956 में संहिताबद्ध किया गया था, लेकिन इस अदालत के प्रोत्साहन के बाद भी देश के सभी नागरिकों के लिए समान नागरिक संहिता लागू करने का कोई प्रयास नहीं किया गया है ....’’

पुर्तगाली नागरिक संहिता विदेशी कानून
शीर्ष अदालत ने इस सवाल पर भी गौर किया कि क्या पुर्तगाली नागरिक संहिता को विदेशी कानून कहा जा सकता है. पीठ ने कहा कि ये कानून तब तक लागू नहीं होते जब तक कि भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हो और पुर्तगाली नागरिक संहिता भारतीय संसद के एक कानून के कारण गोवा में लागू है.
Loading...

पीठ ने कहा, ‘‘इसलिए, पुर्तगाली कानून जो भले ही विदेशी मूल का हो, लेकिन वह भारतीय कानूनों का हिस्सा बना और सार यह है कि यह भारतीय कानून है. यह अब विदेशी कानून नहीं है. गोवा भारत का क्षेत्र है, गोवा के सभी लोग भारत के नागरिक हैं.’’

ये भी पढ़ें
SC ने SC/ST कानून पर फैसले संबंधी पुनर्विचार याचिका तीन जजों की बेंच को सौंपी

अमानक जिलेटिन के आयात को लेकर हाईकोर्ट में PIL, कोर्ट ने मांगा जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 11:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...