भागवत के बयान पर बोले पासवान- आरक्षण पर किसी बहस की जरूरत नहीं

भाषा
Updated: August 21, 2019, 8:15 AM IST
भागवत के बयान पर बोले पासवान- आरक्षण पर किसी बहस की जरूरत नहीं
केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान.

केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) ने पत्रकारों से कहा, "आरक्षण (Reservation) पर किसी तरह की बहस की जरूरत नहीं है. यह अब ऊंची जातियों के गरीबों के लिए भी उपलब्ध है इसलिए यह असंभव है कि इसे समाप्त कर दिया जाएगा."

  • Share this:
भाजपा (BJP) के सहयोगी और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ((Ram Vilas Paswan)) ने मंगलवार को कहा कि आरक्षण (Reservation) के मुद्दे पर किसी भी "बहस" की जरूरत नहीं है और यह समाज के कमजोर वर्गों का संवैधानिक अधिकार है. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि जो आरक्षण के समर्थन में हैं और जो विरोध में हैं, उनके बीच सौहार्दपूर्ण माहौल में चर्चा होनी चाहिए. उनके इस बयान के बाद लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष की यह प्रतिक्रिया आई है.

आरक्षण संवैधानिक अधिकार है

पासवान ने कहा कि आरक्षण संवैधानिक अधिकार है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कई बार दोहराया है कि इसमें छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है. उन्होंने पत्रकारों से कहा, "आरक्षण पर किसी तरह की बहस की जरूरत नहीं है. यह अब ऊंची जातियों के गरीबों के लिए भी उपलब्ध है इसलिए यह असंभव है कि इसे समाप्त कर दिया जाएगा." पासवान ने हालांकि भागवत के बयान पर सीधे प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की और कहा कि उन्हें उनके (भागवत) बयान की विस्तृत जानकारी नहीं है. उन्होंने विपक्षी पार्टियों पर इस मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया. पासवान ने कहा, "विपक्षी दल विवाद को तूल देने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन मेरा मानना है कि उनके झूठ पर लोग विश्वास नहीं करेंगे."

ये भी पढ़ें-

डोनाल्ड ट्रंप की इमरान खान को नसीहत- कश्मीर पर जुबान संभाल के

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 7:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...