तारापीठ काली मंदिर में बंद हुई सदियों पुरानी ये परंपरा...

तारापीठ के प्रसिद्ध काली मंदिर के प्रशासन ने सुबह के समय मूर्ति को पवित्र स्नान कराए जाने के दौरान श्रद्धालुओं के वहां जाने की सदियों पुरानी परंपरा बंद करने का फैसला किया है.

भाषा
Updated: January 13, 2018, 6:19 PM IST
तारापीठ काली मंदिर में बंद हुई सदियों पुरानी ये परंपरा...
तारापीठ मंदिर Image: tarapith.in
भाषा
Updated: January 13, 2018, 6:19 PM IST
तारापीठ के प्रसिद्ध काली मंदिर के प्रशासन ने सुबह के समय मूर्ति को पवित्र स्नान कराए जाने के दौरान श्रद्धालुओं के वहां जाने की सदियों पुरानी परंपरा बंद करने का फैसला किया है.

बीरभूम जिले में मंदिर की शैवायत समिति को आशंका है कि काले रंग में पत्थरों वाली मूर्ति पर श्रद्धालुओं द्वारा अगुरू, चंदन, सिंदूर और अन्य सामग्री लगाने से इसे नुकसान पहुंच सकता है .

समिति के सचिव ध्रुव चटर्जी ने कहा, ‘यह पाया गया है कि श्रद्धालुओं द्वारा पूजन सामग्री लगाने से मूल मूर्ति को नुकसान हो सकता है.’ अतीत में मूर्ति पर लगायी जाने वाली सामग्री प्राकृतिक होती थी लेकिन आज कल इनमें मिलावट होने के कारण मूर्ति को नुकसान पहुंच रहा है.

इसके अलावा, पवित्र स्नान के बाद अन्य धार्मिक क्रिया से भी असर पड़ रहा है क्योंकि ज्यादा जगह नहीं होने के बावजूद मंदिर के भीतर कई श्रद्धालु मौजूद रहते हैं.

मंदिर में नियमित दर्शन के दौरान श्रद्धालु तीन फुट लंबी चांदी की मूर्ति को देखते हैं. सूत्रों ने बताया कि भीड़ को संभालना मुश्किल होता जा रहा है और इसलिए पवित्र स्नान के दौरान श्रद्धालुओं को इस रस्म से रोकने का फैसला किया गया है.

ये भी पढ़ें-
पूजा अर्चना करने तारापीठ गए बिहार के मंत्री पर पश्चिम बंगाल में हमला

IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Nation News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर