प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं: अस्पताल

प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं: अस्पताल
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत में कोई सुधार नहीं (फाइल फोटो)

सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल (Army's Research and Referral Hospital) ने एक बयान में कहा, ‘‘प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) की हालत में आज सुबह तक कोई बदलाव नहीं आया है. वह गहरे कोमा में हैं. उन्हें श्वास संबंधी संक्रमण है, जिसका इलाज चल रहा है. वह अभी वेंटिलेटर पर हैं.’’

  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Former President Pranab Mukherjee) की तबीयत में सोमवार को भी कोई सुधार नहीं हुआ है और वह गहरे कोमा (Deep coma) में हैं. सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल (Army's Research and Referral Hospital) ने यह जानकारी दी. चौरासी वर्षीय मुखर्जी का उपचार कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें श्वास संबंधी संक्रमण (Respiratory infections) है, जिसका इलाज चल रहा है. वह अभी वेंटिलेटर (Ventilators) पर हैं. मुखर्जी को 10 अगस्त को दिल्ली छावनी स्थित इस अस्पताल (Hospitals) में भर्ती कराया गया था.

अस्पताल (Hospital) ने एक बयान में कहा, ‘‘प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) की हालत में आज सुबह तक कोई बदलाव नहीं आया है. वह गहरे कोमा में हैं. उन्हें श्वास संबंधी संक्रमण है, जिसका इलाज चल रहा है. वह अभी वेंटिलेटर पर हैं.’’ मुखर्जी के मस्तिष्क में खून के थक्के (Blood clots in the brain) जमने के बाद उनका ऑपरेशन किया गया था. अस्पताल में भर्ती कराए जाने के समय वह कोविड-19 (Covid-19) से भी संक्रमित पाए गए थे. इसके बाद उन्हें श्वास संबंधी संक्रमण हो गया था. मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के 13वें राष्ट्रपति (President of India) रहे हैं.

यह भी पढ़ें: देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस के बारे में सब कुछ जानते हैं आप? तो दीजिए इन मजेदार सवालों के जवाब



मुखर्जी की बेटी ने भावुक यादें साझा की थीं
बता दें कि 15 अगस्त को उनकी बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पिछले सालो में पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी के ध्वजारोहण करने की तस्वीरें ट्वीट की थीं. शर्मिष्ठा ने कहा था, ‘मेरे बचपन के दिनों में, मेरे पिता और मेरे चाचा गांव में हमारे पैतृक आवास में ध्वजारोहण करते थे. तब से, स्वतंत्रता दिवस पर ध्वजारोहण करने से वह कभी नहीं चूके थे. पिछले वर्षों के समारोहों की कुछ यादें साझा कर रही हूं. मुझे उम्मीद है कि अगले साल वह निश्चित रूप ऐसा करेंगे. जय हिंद.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज