सत्यपाल मलिक ने कहा- दवाओं की कोई कमी नहीं, फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं

News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 5:13 PM IST
सत्यपाल मलिक ने कहा- दवाओं की कोई कमी नहीं, फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं
जम्मू और कश्मीर (Jammu And Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik).

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने कहा, 'अगर कम्युनिकेशन नहीं होने से जान बचती है तो इसमें क्या समस्या है?'

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2019, 5:13 PM IST
  • Share this:
जम्मू और कश्मीर (Jammu And Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने रविवार को घाटी में लैंडलाइन और मोबाइल फोन सेवाओं और इंटरनेट को निलंबित करने के केंद्र के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि ये कदम जान बचाने में मदद कर रहा है. उन्होंने कहा, 'जम्मू और कश्मीर ने 10 दिनों में एक भी हत्या नहीं देखी है. अगर कम्युनिकेशन नहीं होने से जान बचती है तो इसमें क्या समस्या है?' समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक उन्होंने कहा, 'कश्मीर में पहले से चल रही स्थितियों की वजह से पहले हफ्ते कम से कम 50 लोग मारे गए थे. हमारा दृष्टिकोण ऐसा है कि मानव जीवन का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए.'

मलिक ने दवाओं और खाद्य सामग्री की कमी के दावों को खारिज किया
सत्‍यपाल मलिक ने राज्य में दवाओं की आपूर्ति और जरूरी खाद्य सामग्री की कमी की खबरों को भी खारिज करते हुए कहा, 'कश्मीर में जरूरी सामानों और दवाओं की कोई कमी नहीं है. असल में, हमने ईद पर लोगों के घरों में मांस, सब्जियां और अंडे भेजे.' इस महीने की शुरुआत में, सरकार ने अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को रद्द कर दिया था और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया था. जम्मू-कश्मीर में कम्युनिकेशन को संसद में नए बिल को पेश करने से पहले ही 4 अगस्त को खत्म कर दिया गया था. 5 अगस्त को संसद में अनुच्छेद 370 को खत्म कर नए बिल को लाया गया था. सरकार ने सीमा पार से सुरक्षा खतरों का हवाला देते हुए वार्षिक अमरनाथ यात्रा को भी रद्द कर दिया था.

अरुण जेटली ने दी थी जम्मू-कश्मीर का राज्यपाल बनने की सलाह

मलिक पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को अंतिम सम्मान देने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में थे. अरुण जेटली का शनिवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में निधन हो गया. अरुण जेटली को याद करते हुए मलिक ने कहा कि पिछले साल जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल के तौर पर जिम्मेदारी संभालने के लिए जेटली ने उन्हें प्रेरित किया था. उन्होंने कहा, 'मुझे अरुण जेटली ने गवर्नर के रूप में जिम्मेदारी लेने की सलाह दी थी. उन्होंने मुझे बताया कि ये ऐतिहासिक होगा. उन्होंने मुझे ये भी बताया कि उनके ससुराल वाले जम्मू से हैं.'

ये भी पढ़ें-
UAE के बाद पीएम मोदी ने बहरीन में शुरु किया रुपे कार्ड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 3:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...