लाइव टीवी
Elec-widget

कर्ज के चलते आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को मुआवजा देने का प्रावधान नहीं: सरकार

भाषा
Updated: November 29, 2019, 7:18 PM IST
कर्ज के चलते आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को मुआवजा देने का प्रावधान नहीं: सरकार
लोकसभा में मुआवजा देने से जुड़े सवाल के जवाब में यह बात सामने आई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लोकसभा (Lok Sabha) में शीतकालीन सत्र (Winter Session) के दौरान कर्ज के कारण आत्महत्या (Suicide) करने वाले किसानों के परिजनों को किसी योजना के तहत मुआवजा देने से जुड़े सवाल के जवाब में यह बात सामने आई.

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने देश में किसानों (Farmers) को सूदखोरों के कर्ज के जाल से मुक्त कराने के लिए बैंकिंग क्षेत्र की आर्थिक सहयाता को बढ़ावा देने पर जोर देते हुये माना है कि आत्महत्या (Suicide) करने वाले किसानों के परिजनों को किसी भी प्रकार से मुआवजा देने का फिलहाल कोई प्रावधान नहीं है. कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने शुक्रवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल में किसानों (Farmers) को ऋण जाल (Debt Trap) से मुक्त कराने के उपायों से जुड़े एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी.

लोकसभा (Lok Sabha) में शीतकालीन सत्र (Winter Session) के दौरान कर्ज के कारण आत्महत्या (Suicide) करने वाले किसानों के परिजनों (Parents) को किसी योजना के तहत मुआवजा देने से जुड़े पूरक प्रश्न के जवाब में रूपाला ने कहा, 'सरकार की ओर से किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए कई कार्यक्रमों को अमल में लाये जा रहा हैं लेकिन आत्महत्या करने वाले किसानों को मुआवजा देने का प्रावधान वर्तमान में चलायी जा रही किसी नीति में नहीं है.'

6.96 करोड़ रुपये जारी किए गए
एक अन्य प्रश्न के उत्तर में रूपाला ने स्पष्ट किया कि किसानों को चार प्रतिशत ब्याज दर पर दिया जा रहा कर्ज सिर्फ कृषि कार्य के लिए है, इसमें कृषि कारोबार (Agricultural Business) शामिल नहीं है. उन्होंने कहा कि किसानों को सूदखोरों के ऋणजाल से मुक्त कराने के लिये सरकार ने संस्थागत कर्ज के तहत सभी बैंकों को कृषि ऋण को सरल तरीके से जारी करने को बढ़ावा दिया गया है.

रूपाला ने बताया कि वित्तीय संस्थाओं (Financial Institutions) से किसानों को पर्याप्त रियायती ऋण की उपलब्धता का लक्ष्य 2016-17 में नौ लाख करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2019-20 में 13.50 लाख करोड़ रुपये कर दिया गया है. इस मद में इस साल 30 अगस्त तक 6.96 करोड़ रुपये जारी कर दिये गये हैं.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस ने गुजरात परीक्षा में ‘गड़बड़ी’ का सीसीटीवी फुटेज जारी किया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 6:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...