लाइव टीवी

CBSE: मार्क्‍स का री-इवैल्‍यूएशन बंद, लेकिन करा सकेंगे वेरिफिकेशन, जानें दोनों में अंतर

प्रिया गौतम | News18India
Updated: May 28, 2017, 6:11 PM IST
CBSE: मार्क्‍स का री-इवैल्‍यूएशन बंद, लेकिन करा सकेंगे वेरिफिकेशन, जानें दोनों में अंतर
file photo

सीबीएसई की ओर से कहा गया है कि अगर कोई छात्र दोबारा मूल्‍यांकन के लिए सीबीएसई को रिक्‍वेस्‍ट भेजता है तो वह स्‍वीकार नहीं की जाएगी.

  • Share this:
सीबीएसई बारहवीं के रिजल्‍ट से नाखुश छात्रों के लिए राहत की एक खिड़की बंद हो गई है. इस बार छात्र अपनी उत्‍तर-पुस्तिका का री-इवैल्‍यूएशन (दोबारा मूल्‍यांकन) नहीं करा सकेंगे. हालांकि मार्क्‍स का वेरीफिकेशन (सत्‍यापन) कराने के साथ ही उत्‍तर-पुस्तिका की फोटोकॉपी सीबीएसई से ली जा सकेगी.

सीबीएसई की ओर से कहा गया है कि अगर कोई छात्र दोबारा मूल्‍यांकन के लिए सीबीएसई को रिक्‍वेस्‍ट भेजता है तो वह स्‍वीकार नहीं की जाएगी. सीबीएसई ने इस साल री-इवैल्‍यूएशन की सुविधा न देने का फैसला किया है, जबकि मार्क्‍स का वेरीफिकेशन कराने के लिए छात्र ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया का सहारा ले सकते हैं.

यहां यह जानना जरूरी है कि क्‍या है री-इवैल्‍यूएशन और वेरीफिकेशन में अंतर..

विद्या बाल भवन सीनियर सैकेंडरी स्‍कूल मयूर विहार के प्रधानाचार्य डॉ. सतवीर शर्मा का कहना है कि अक्‍सर लोग री-इवैल्‍यूएशन (दोबारा मूल्‍यांकन) और वेरीफिकेशन को एक ही समझते हैं. जबकि इस साल पहली बार सीबीएसई ने दोबारा मूल्‍यांकन पर रोक लगा दी है.

री-इवैल्‍यूएशन (दोबारा मूल्‍यांकन)
रिजल्‍ट आने के बाद अगर छात्र को लग रहा है कि जितना अच्‍छा उसने एग्‍जाम दिया, लेकिन मार्क्‍स उतने नहीं मिले तो इस प्रक्रिया के तहत छात्र अपनी उत्‍तर- पुस्तिका को दोबारा जांच के लिए अपील कर सकता था. शर्मा कहते हैं कि सीबीएसई की ओर से री-इवैल्‍यूएशन के लिए टीचर्स का एक पैनल बनाया जाता था जो कॉपी के हर एक सवाल को जांचता था और उसके अनुसार दोबारा अंक देता था.

वेरीफिकेशन (सत्‍यापन)शर्मा कहते हैं कि इसके तहत सिर्फ दो चीजों का सत्‍यापन हो सकता है. पहला कि जो कॉपी है वह इसी रॉल नंबर और नाम वाले बच्‍चे की है. दूसरा ये कि जितने अंक मार्क्‍सशीट में हैं उतने अंक उत्‍तर-पुस्तिका पर दिए गए हैं. यानि वैरीफिकेशन में सिर्फ नाम और नंबर का मिलान कर उसे सीबीएसई सत्‍यापित कर देता है.

री-इवैल्‍यूएशन बंद करने का असर
री-इवैल्‍यूएशन बंद किए जाने पर शर्मा क‍हते हैं कि इससे छात्रों को फायदा तो मिलता था. कई बार देखने में आया कि कॉपी री-चैक कराने के बाद छात्र के अंक बढ़ गए. हालांकि इस प्रक्रिया में कुछ वक्‍त लगता था. अगर सीबीएसई ने इसे बंद किया है तो आगे देखना होगा कि इसका क्‍या असर पड़ सकता है. ये है वेरीफिकेशन की ऑनलाइन प्रक्रिया

वेरीफिकेशन के लिए करें ऑनलाइन आवेदन
जो छात्र अपने अंकपत्र का वेरीफिकेशन कराना चाहते हैं, वे सीबीएसई की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. वेरीफिकेशन के लिए कुछ फीस भी देनी होती है जो ऑनलाइन ही भरनी होगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 28, 2017, 5:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर