Assembly Banner 2021

मुंबई बिजली कटौती में चीनी साजिश नहीं, नवंबर में की गई थी हैकिंग की कोशिश: ऊर्जा मंत्री

केंद्रीय मंत्री आरके सिंह. (फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री आरके सिंह. (फाइल फोटो)

Chinese Malware Attack: न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट जिसमें भारत के पावर ग्रिड पर चीनी हमले की कोशिश का दावा किया गया था उस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ऐसी कोशिशें हुई थीं लेकिन वह नवंबर में हुई थीं, मुंबई ब्लैकआउट के एक महीने के बाद.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 1, 2021, 10:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले साल अक्टूबर में मुंबई में ग्रिड की खराबी (Mumbai power outage) के कारण बड़े पैमाने पर बिजली की कटौती को चीनी साइबर अटैक (Chinese Cyber Attack) बताने के दावों को केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने खारिज किया है. केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने न्यूज18 से बताया कि ये कोई मानव त्रुटि थी. बिजली मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट में विशेषज्ञों की एक टीम ने इंजीनियर और ऑपरेटर को मुंबई में आउटेज की ओर ले जाने के लिए ड्यूटी पर दोषी ठहराया. सिंह की टिप्पणी महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत के उस बयान के बाद आई है जिसमें कहा गया था कि पिछले साल अक्टूबर में ‘‘साइबर हमले’’ के चलते मुम्बई बड़े पैमाने पर अचानक बिजली गुल हो गयी थी और यह ‘‘विध्वंस’’ का कृत्य था.

पिछले साल 12 अक्टूबर को ग्रिड फेल हो जाने से यहां बड़े पैमाने पर बिजली चली गयी थी, ट्रेनें जहां थीं, वहीं रूक गयी थीं, कोविड-19 महामारी के चलते घर से काम करने वालों का काम बाधित हेा गया था और आर्थिक गतिविधि पर बुरा असर पड़ा था. राउत ने कहा कि राज्य सरकार, महाराष्ट्र विद्युत विनियामक आयोग और केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण ने बिजली गुल हो जाने की इस घटना की जांच के लिए अलग अलग समितियां बनायी थीं और उनकी रिपोर्टें मिल गयी हैं.

ये भी पढ़ें- चीन साइबर हमला: केंद्र ने कहा- भारत की बिजली आपूर्ति पर कोई असर नहीं पड़ा



उन्होंने कहा, ‘‘तब हमने साइबर सेल से शिकायत की थी और उनकी रिपोर्ट का इंतजार है। लेकिन मेरे पास जो प्राथमिक सूचना है, उसके हिसाब से निश्चित ही यह साइबर हमला था और यह विध्वंस था।’’
इंसानी गलती से हुई थी मुंबई की कटौती
सिंह ने कहा कि हमने मुंबई में एक टीम भेजी थी और उन्होंने बताया था कि ऑपरेटर्स या फिर जो राज्य का ट्रांसमिशन सिस्टम देखते हैं उनकी गलती से ऐसा हुआ था. ऐसे में जहां गलती हुई थी उन्होंने उस बिंदु की पहचान कर ली थी और मैं राज्य सरकार को इस संदर्भ में लिखूंगा ताकि वह उनसे स्पष्टीकरण की मांग कर सकें और उन पर कार्रवाई कर सकें.

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट जिसमें भारत के पावर ग्रिड पर चीनी हमले की कोशिश का दावा किया गया था उस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ऐसी कोशिशें हुई थीं लेकिन वह नवंबर में हुई थीं, मुंबई ब्लैकआउट के एक महीने के बाद. उन्होंने कहा कि कुछ साइबर अटैक/हैकिंग के प्रयास किए गए थे और हमारे सीईआरटी-आईएन ने हमारे केंद्र को इसकी सूचना दी थी. इन सेंटरों ने ऑडिट किया था. जहां से हैकर्स ने ब्रीच करने की कोशिश की उस पॉइंट को ब्लॉक कर दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज