लाइव टीवी

जम्मू के DGP बोले- कठुआ केस में गवाहों को नहीं धमकाया, कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे

भाषा
Updated: October 23, 2019, 7:19 PM IST
जम्मू के DGP बोले- कठुआ केस में गवाहों को नहीं धमकाया, कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे
कठुआ केस में कोर्ट ने एसआईटी के खिलाफ FIR के आदेश दिए हैं.

जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) की अदालत ने मंगलवार को कठुआ में एक बालिका के साथ सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले (Kathua Gangrape Murder case) की जांच करने वाले विशेष जांच दल के छह सदस्यों के खिलाफ पुलिस को प्राथमिकी दर्ज किये जाने के निर्देश दिये थे.

  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने पिछले साल कठुआ दुष्कर्म (Kathua Rape Case) और हत्या मामले की जांच करने वाली टीम का बचाव करते हुए बुधवार को कहा कि किसी गवाह को प्रताड़ित नहीं किया गया. साथ ही उन्होंने कहा कि जांच करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी के अदालत के निर्देश का पालन किया जाएगा.

पुलिस प्रमुख की यह टिप्पणी तब आयी है जब एक दिन पहले जम्मू (Jammu) की अदालत ने पुलिस को विशेष जांच दल (एसआईटी) के छह सदस्यों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के निर्देश दिए थे.

SIT पर हैं ये आरोप
कठुआ में आठ साल की बच्ची के दुष्कर्म और हत्या मामले की जांच करने वाली एसआईटी के सदस्यों पर गवाहों को प्रताड़ित करने और उन्हें झूठे बयान देने के लिए जोर जबरदस्ती करने का आरोप है. सिंह ने दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) में त्राल (Tral) में मुठभेड़ में तीन आतंकवादियों के मारे जाने को लेकर संवाददाता सम्मेलन के दौरान पत्रकारों से कहा कि अदालत के आदेश की जांच की जा रही है और आवश्यक कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि जरूरी नहीं कि हर प्राथमिकी तथ्यों पर आधारित हो. उन्होंने कहा, ‘‘कई बार एक उद्देश्य होता है और अदालत का निर्देश आता है और हम देखेंगे. हम हजारों मामलों की जांच करते हैं. हमारे पास हर साल 17,000 से अधिक मामले दर्ज होते हैं.’’

'कानून के अनुसार करेंगे कार्रवाई'
उन्होंने कहा, ‘‘इसका यह मतलब नहीं है कि हम लोगों को प्रताड़ित करें. ऐसे हाई प्रोफाइल मामले होते हैं जहां लोग इस तरह के हथकंडे अपनाते हैं. हम निश्चित तौर पर कानून के अनुसार कार्रवाई करेंगे और चिंता की कोई बात नहीं है.’’
Loading...

गौरतलब है कि जम्मू की अदालत एक आरोपी विशाल जंगोत्रा के दोस्तों सचिन शर्मा, नीरज शर्मा और साहिल शर्मा की अर्जी पर सुनवाई कर रही है. जंगोत्रा को बाद में बरी कर दिया गया था.

इन पुलिसवालों के खिलाफ दर्ज होगी एफआईआर
अदालत ने निर्देश दिया कि तत्कालीन एसएसपी आर के जल्ला (अब सेवानिवृत्त), एएसपी पीरजादा नवीद, पुलिस उपाधीक्षक शेतम्बरी शर्मा और निस्सार हुसैन तथा सब इंस्पेक्टर उरफान वानी और केवल किशोर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए. उसने एसएसपी (जम्मू) से 11 नवंबर को अगली सुनवायी तक अनुपालन रिपोर्ट देने को भी कहा है.

पुलिस बल में सूत्रों ने बताया कि जल्द ही जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय (Jammu Kashmir High Court) में निचली अदालत के आदेश को रद्द करने की मांग वाली अर्जी दायर की जाएगी.

ये भी पढ़ें-
पाक के विरोध में हुई रैली के बाद PoK में इमरजेंसी लागू, हिरासत में लिए गए नेता

J&K: BDC चुनाव से पहले आतंकियों ने स्कूल में लगाई आग, सब्जी मंडी में फेंके बम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 7:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...