कोविड पेशेंट के लिए पूर्वोत्तर रेलवे की तैयारी, यूपी, बिहार, उत्तराखंड को मुहैया कराएंगे कोविड केयर कोच

पूर्वोत्‍तर रेलवे ने स्टेशनों पर कोविड केयर ‌कोच तैयार कर आइसोलेशन वार्ड बनाये हैं.

पूर्वोत्‍तर रेलवे ने स्टेशनों पर कोविड केयर ‌कोच तैयार कर आइसोलेशन वार्ड बनाये हैं.

Indian Railway News: रेलवे की ओर से स्टेशनों पर कोविड केयर ‌कोच (COVID Care Coach) तैयार कर आइसोलेशन वार्ड (Isolation Ward) बनाने जा रहे हैं. इन कोविड केयर कोचों को पूर्वोत्तर रेलवे उत्तर प्रदेश, बिहार एवं उत्तराखंड प्रदेश की मांग के आधार पर संबंधित स्टेशनों पर उपलब्ध कराएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 3:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना (Corona) संक्रमण की रोकथाम में भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने भी बड़ी योजना तैयार की है. रेलवे की ओर से स्टेशनों पर कोविड केयर ‌कोच (COVID Care Coach) तैयार कर आइसोलेशन वार्ड (Isolation Ward) बनाने जा रहे हैं.

राज्यों की मांग पर संबंधित रेलवे जोन इन आइसोलेशन वार्ड को कोविड मरीजों को भर्ती करने के लिए प्रयोग में लेकर आएगी. इससे बड़ी संख्या में राज्यों को मरीजों के लिए बेड की व्यवस्था हो सकेगी.

पूर्वोत्तर रेलवे ने भी अपने जोन के अंतर्गत आने वाले तीन राज्य उत्तर प्रदेश, बिहार और उत्तराखंड के रेलवे स्टेशनों पर कोविड केयर कोच सेंटर तैयार किए हैंं.

बताते चलें कि भारतीय रेलवे ने ‘कोविड महामारी‘ से निपटने के लिये राज्य सरकारों के साथ मिलकर कार्य करने के लिये व्यापक तैयारियां की हैं.
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय (Union Ministry of Health & Family Welfare) द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप कोरोना (Corona) संक्रमित मरीजों के उपचार हेतु बेड की समस्या से निपटने के लिये कोचों को कोविड केयर कोच (COVID Care Coach) में परिवर्तित किया गया है, जिन्हें राज्य सरकारों की मांग के अनुसार स्टेशनों पर रखा जायेगा.

बताते चलें कि पूर्वोत्तर रेलवे (North Eastern Railway) द्वारा गत वर्ष 217 कोचों को कोविड केयर कोच (CCC) में परिवर्तित किया गया था.

इन कोविड केयर कोचों को पूर्वोत्तर रेलवे सेवित क्षेत्र के राज्यों जैसे-उत्तर प्रदेश, बिहार एवं उत्तराखंड प्रदेश की मांग के आधार पर सम्बन्धित स्टेशनों पर उपलब्ध कराया जायेगा.



कोरोना संक्रमण को देखते हुये महाप्रबन्धक पूर्वोत्तर रेलवे विनय कुमार त्रिपाठी (NER GM Vinay Kumar Tripathi) एवं उनकी उच्च स्तरीय टीम द्वारा स्थिति पर निरन्तर निगरानी रखी जा रही है और इसकी समीक्षा की जा रही है.

चिकित्सकीय संसाधनों की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जा रही है. रेलवे चिकित्सालयों में जरूरत के मुताबिक चिकित्सक एवं पैरा मेडिकल स्टाफ की संविदा के आधार पर भर्ती की प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी गई है. 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी रेलकर्मियों एवं उनके परिजनों के टीकाकरण कार्य निरन्तर जारी है.

रेलवे प्रशासन द्वारा आमजन की सुविधा के लिये मांग के आधार पर निरन्तर विशेष ट्रेनों (Special Trains) का संचालन कर रहा है. ऐसे मुश्किल दौर में ट्रेनों के निर्बाध एवं संरक्षित संंचालन में रेलकर्मियों का अभूतपूर्व योगदान है.

उनका उत्साहवर्धन करने के लिये महाप्रबन्धक त्रिपाठी के‍‍ निर्देश पर मण्डल एवं मुख्यालय स्तर पर प्रत्येक सप्ताह में सबसे उत्कृष्ट कार्य करने वाले रेलकर्मियों को ‘कोरोना योद्धा‘ के सम्मान से प्रशस्ति-पत्र एवं नगद पुरस्कार देेेकर सम्मानित किया ‌जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज