India-China Rift Exclusive: भारत ने चीन के साथ युद्ध को टाला, हम जंग की कगार पर थे- लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी

नार्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने दी जानकारी. (Pic- News18)

India China Standoff: नॉर्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा कि भारत-चीन पिछले साल 31 अगस्‍त को युद्ध के करीब आ गए थे.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. लद्दाख (Ladakh) में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर करीब एक साल से जारी तनाव के बाद चीनी सेना (China) अब पीछे जा रही है. यह भारत की बड़ी रणनीतिक जीत कही जा रही है. इस बीच भारतीय सेना (Indian Army) के नॉर्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने इस भारत चीन मुद्दे पर प्रतिक्रिया दी है. उन्‍होंने साफतौर पर कहा कि भारत ने चीन के साथ युद्ध को टाला है. दोनों देश युद्ध की कगार पर थे.

    CNN-News18 से खास बातचीत में नॉर्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा, 'पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ करीब 9 महीने से जारी तनाव के दौरान कई उतार चढ़ाव आए. लेकिन भारत-चीन पिछले साल 31 अगस्‍त को युद्ध के करीब आ गए थे. ऐसा तब हुआ था जब भारत ने कैलाश रेंज के पहाड़ों पर 29 और 30 अगस्‍त को पांव जमा लिए थे. ये रणनीतिक रूप से मजबूत था. भारत के इस अचानक से लिए गए कदम से चीन परेशान हो गया था. चीनी सेना ने इसके लिए भारत के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किए.'

    नॉर्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा, 'गलवान की घटना हो चुकी थी और लाल रेखा खींची जा चुकी थी. हमें अपनी तरह से अभियान को अंजाम देने के लिए पूरी तरह से स्‍वतंत्र थे. उस पल जब आप दुश्‍मन को ऊपर आने की कोशिश करते हुए देखते हैं, मेरे टैंक मैन, गनर, रॉकेट लांचर सब यही देख रहे थे, उनके लिए सबसे आसान काम उस समय वह था जो वह करने के लिए प्रशिक्षित हैं. ट्रिगर को खींचें. इसके लिए किसी साहस की जरूरत नहीं है. लेकिन साहस के लिए सबसे मुश्किल चीज है कि खुली फायरिंग न की जाए, ट्रिगर को ना खींचा जाए. इसलिए, हमें बहुत स्पष्ट होना चाहिए कि एक समय था जब युद्ध वास्तव में टल गया था. हम मुहाने पर थे, हम युद्ध की कगार पर थे.'

    31 अगस्‍त, 2020 को जब चीनी सेना कैलाश रेंज पर अपना कब्‍जा करना चाह रही थी, उस समय स्थिति काफी तनावपूर्ण हो गई थी. इंटरव्‍यू के दौरान नार्दर्न आर्मी कमांडर ने चीन की ओर हुई मौतों का आकलन भी किया. उन्‍होंने ये संख्‍या करीब 45 बताई. ये पहली बार है जब सेना ने चीनी सैनिकों के मरने संख्‍या पर बातचीत की है.

    यहां देखें पूरा इंटरव्‍यू-  

    उन्‍होंने कहा, 'मैं कोई संख्‍या नहीं दे रहा हूं. लेकिन हाल ही में रूसी एजेंसी तास (TASS) ने मृत चीनी सैनिकों की संख्‍या 45 बताई है. मुझे लगता है कि यही वो संख्‍या जिस पर हमें देखना चाहिए. यह अधिक भी हो सकती है.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.